दुआए अल-अ'शरात    |    عشرات  
 

दुआए अल-अशरात रोज़ाना पढ़ने वाली दुअओं में से है! इसको फजर और इशा की नमाज़ के बाद पढने की ताकीद की गयी है! इसको पढने का ख़ास वक़्त जुमा के दिन असर के नमाज़ के बाद है (रेफरेंस - मिस्बाह अल-मुतहज्जिद - अल्लामा शेख़ तूसी)

     

PDF पढ़ें  अरबी-हिंदी ट्रांस'लिटरेशन और तर्जुमा के साथ   |   सिर्फ हिंदी तर्जुमा    |    सिर्फ हिंदी ट्रांस'लिटरेशन    |    हिंदी ट्रांस'लिटरेशन - हिंदी तर्जुम

     
वापस जाएँ :  जुमा का दिन |  फज्र दुआ |    असर दुआ |    ईशा दुआ

    दुसरे फौरमैट में            MP3 ऑडियो नया

     

بِسْمِ ٱللَّهِ ٱلرَّحْمٰنِ ٱلرَّحِيمِ

बिस्मिल्लाहिर रहमानिर रहीम

खुदा के नाम से (शुरू करता हूँ) जो बड़ा मेहरबान और निहायत रहम वाला है!

 

سُبْحَانَ ٱللَّهِ

सुबहान अल्लाहे

पाक है खुदा

وَٱلْحَمْدُ لِلَّهِ

वल हम्दो लिल्लाहे

और हम्द खुदा के लिए ही है

وَلاَ إِلٰهَ إِلاَّ ٱللَّهُ

व ला इलाहा इलल लाहो

अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं  

وَٱللَّهُ اكْبَرُ

वल लाहो अकबर

और अल्लाह बुज़ुर्ग्तर है,

وَلاَ حَوْلَ وَلاَ قُوَّةَ إِلاَّ بِٱللَّهِ ٱلْعَلِيِّ ٱلْعَظِيمِ

व ला हौला वला क़ुव्वता इल्ला बिल्लाहिल अलियुल अज़ीम

नहीं कोई ताक़त व कुव्वत मगर वोह जो ख़ुदाए बुज़ुर्ग व बरतर से है

سُبْحَانَ ٱللَّهِ آنَاءَ ٱللَّيْلِ وَاطْرَافَ ٱلنَّهَارِ

सुबहान अल्लाहे अन'ना अल'लैले व अतराफ़ अल्न-नहारे

पाक है खुदा अवक़ात (वकतों) शब् और एतराफ़ रोज़ में,

سُبْحَانَ ٱللَّهِ بِٱلْغُدُوِّ وَٱلآصَالِ

सुबहान अल्लाहे बिल-गुदुवी वल'असाले

पाक है खुदा तुलू'अ व गूरूब के वक़्त

سُبْحَانَ ٱللَّهِ بِٱلْعَشِيِّ وَٱلإِبْكَارِ

सुबहान अल्लाहे बिल अशी'यी वल'इब्कारे

पाक है खुदा सुबह और शाम के वक़्त

سُبْحَانَ ٱللَّهِ حِينَ تُمْسُونَ وَحِينَ تُصْبِحُونَ

सुबहान अल्लाहे हीना व हीना तुसबेहूना

पाक है खुदा जब तुम शाम करते हो और जब तुम सुबह करते हो.

وَلَهُ ٱلْحَمْدُ فِي ٱلسَّمَاوَاتِ وَٱلارْضِ

व लहू अलहम्दो फी अल्स-समावाते फ़िल-अर्ज़

और हमद इसी के लिए है आसमानों और ज़मीन में

وَعَشِيّاً وَحِينَ تُظْهِرُونَ

व अशीयन व हैना तुज़'हेरूना

और बी'वक़्त असर जब तुम जोहर करते हो,

يُخْرِجُ ٱلْحَيَّ مِنَ ٱلمَيِّتِ

युखरेजो अल'हैय्या मिनल-मैय्यते

वोह मुर्दा से ज़िन्दा को निकालता है

وَيُخْرِجُ ٱلْمَيِّتَ مِنَ ٱلحَيِّ

व युखरेजो अल-मैय्येता मिनल हय्यी

और ज़िन्दा से मुर्दा को निकालता है

وَيُحْيِي ٱلارْضَ بَعْدَ مَوْتِهَا

व युही'अल अर्ज़ा बा'अदा मौतेहा

और ज़मीन को इसकी मौत के बाद ज़िन्दा करता है

وَكَذٰلِكَ  تُخْرَجُونَ

व कज़ालिका तुखरेजूना

और ऐसे ही तुम कयामत में निकाले जाओगे,

سُبْحَانَ رَبِّكَ رَبِّ ٱلْعِزَّةِ عَمَّا يَصِفُونَ

सुब्हाना रब्बेका रब्बिल इज्ज़ते अम्मा यसेफूना

पाक है तुम्हारा रब इन बातों से जो वोह लोग ब्यान किया करते हैं,

وَسَلاَمٌ عَلَىٰ ٱلْمُرْسَلِينَ

व सलामुल अला अल'मुर-सलीना 

और सलाम हो तमाम रसूलों पर

وَٱلْحَمْدُ لِلَّهِ رَبِّ ٱلْعَالَمِينَ

वल हम्दो लिल्लाहे रब्बिल आलामीन 

और हम्द खुदा ही के लिए है,

سُبْحَانَ ذِي ٱلْمُلْكِ وَٱلْمَلَكُوتِ

सुब्हाना ज़ी'अल्मुल्के वल'मल्कूते 

जो आलामीन का परवरदिगार है,

سُبْحَانَ ذِي ٱلْعِزَّةِ وَٱلْجَبَرُوتِ

सुब्हाना ज़ी'अल-इज्ज़ते वल-जब्र्रूत

पाक है वोह जो साहिबे मुल्क-ओ-मलकूत है

سُبْحَانَ ذِي ٱلْكِبْرِيَاءِ وَٱلْعَظَمَةِ

सुब्हाना ज़ी'अल-किब्रियाए वल-अज़ा'मते

पाक है वोह जो साहिबे इज़्ज़त-ओ-जबरूत है,

ٱلْمَلِكِ ٱلْحَقِّ ٱلْمُهَيْمِنِ ٱلْقُدُّوسِ

अल-मलेके अल-हक़्क़े अल-मोहीमिने अल-कुददूसे

पाक है वोह जो बड़ाई और बुज़ूर्गी का मालिक है

سُبْحَانَ ٱللَّهِ ٱلْمَلِكِ ٱلْحَيِّ ٱلَّذِي لاَ يَمُوتُ

सुबहान अल्लाहे अल-मलेके अल-हय्युल लज़ी ला यमूतो 

बादशाह, बर'हक़ मुक़'तादर, और मुन्ज़'ज़ह है, पाक है ख़ुदा जो बादशाह और ज़िन्दा है की जिसे मौत नहीं,

سُبْحَانَ ٱللَّهِ ٱلْمَلِكِ ٱلْحَيِّ ٱلْقُدُّوسِ

सुबहान अल्लाहे अल-मलेके अल-हय्यी अल-कुददूसे

पाक है खुदा जो बादशाह ज़िन्दा  और मुन्ज़'ज़ह है,

سُبْحَانَ ٱلْقَائِمِ ٱلدَّائِمِ

सुब्हाना अल-क़ायेमे अल्द'दायेमे

पाक है वोह जो क़ायेम-ओ-दायेंम है,

سُبْحَانَ ٱلدَّائِمِ ٱلْقَائِمِ

सुब्हाना अल्द'दायेमे अल-क़ायेमे

पाक है वोह जो दायेंम-ओ-क़ायेम है,

سُبْحَانَ رَبِّيَ ٱلْعَظِيمِ

सुब्हाना रब्बियल अज़ीम

पाक है मेरा रब जो अज़मत वाला है,

سُبْحَانَ رَبِّيَ ٱلاعْلَىٰ

सुब्हाना रब्बियल आ'अला

पाक है मेरा रब जो आला है

سُبْحَانَ ٱلْحَيِّ ٱلْقَيُّومِ

सुब्हाना अल्हय्यो अल-क़य्युमो

पाक है वोह जो हमेशा ज़िन्दा-ओ-पाइन्दा है,

سُبْحَانَ ٱلْعَلِيِّ ٱلاعْلَىٰ

सुब्हाना अल-अलिय्यी अल-आला

पाक है वोह जो बुलंद-ओ-बाला है

سُبْحَانَهُ وَتَعَالَىٰ

सुब्हानाहू व तअ'आला 

वोह पाक और बरतर है

سُبُّوحٌ قُدُّوسٌ

सुबबूहून क़ुद'दूसून

पाकीज़ा व मुन्ज़'ज़ह है

رَبُّنَا وَرَبُّ ٱلْمَلاَئِكَةِ وَٱلرُّوحِ

रब'बना रब्बुल मलाइकते वर रूह

हमारा रब जो मलाइका और रूह का रब है

سُبْحَانَ ٱلدَّائِمِ غَيْرِ ٱلْغَافِلِ

सुब्हाना अल'दाइमे गैरिल गाफ़िले

पाक है वोह हमेशा रहम करने वाला जो गाफ़िल नहीं,

سُبْحَانَ ٱلْعَالِمِ بِغَيْرِ تَعْلِيمٍ

सुब्हाना अल-आलिमे बगैरे तालीमिन

पाक है वो जो बगैर तालीम के आलिम है

سُبْحَانَ خَالِقِ مَا يُرَىٰ وَمَا لاَ يُرَىٰ

सुब्हाना अल-खालिक़े मा युरा व मा ला युरा

पाक है वो जो देखि अनदेखी हर चीज़ का खालिक़ है

سُبْحَانَ ٱلَّذِي يُدْرِكُ ٱلابْصَارَ

सुब्हाना अल-लज़ी युदरिकल अब्सारा

पाक है वोह जो नज़रों को पाता है

وَلاَ تُدْرِكُهُ ٱلابْصَارُ

वला तुदरेकोहू अल-अब्सारो

और नज़रें इसे पा नहीं सकतीं

وَهُوَ ٱللَّطِيفُ ٱلْخَبِيرُ

व होवा अल'लतीफ़ो अल-ख़बीरो

और वो बारीक'बीन और खबर वाला है

اللَّهُمَّ إِنِّي اصْبَحْتُ مِنْكَ فِي نِعْمَةٍ وَخَيْرٍ

अल्लाहुम्मा इन्नी अस'बहतो मिनका फी ने'मतीन फ़ी खैरिन 

ऐ माबूद  तेरी तरफ से मिलने वाली नेमत ख़ैर-ओ-बरकत

وَبَرَكَةٍ وَعَافِيَةٍ

व बराकातिन व आफ़िया'तिन 

व आफ़ियत में सुबह की,

فَصَلِّ عَلَىٰ مُحَمَّدٍ وَآلِهِ

'सल्ले अला मोहम्मदीन व आलेही 

बस रहमत फरमा मोहम्मद और आले मोहम्मद पर

وَاتْمِمْ عَلَيَّ نِعْمَتَكَ وَخَيْرَكَ

व अतमिम अलैय्या ने'मतेका व खैरेका 

और मुझ पर अपनी नेमत अपनी ख़ैर

وَبَرَكَاتِكَ وَعَافِيَتَكَ

व बराकातेका व आफ़ि'यतेका 

अपनी बरकतें और अपनी आफ़ियत पूरी फरमा

بِنَجَاةٍ مِنَ النَّارِ

बे नेजातिन मिन अल्न-नारे

जहन्नुम से निजात के ज़रिये

وَٱرْزُقْنِي شُكْرَكَ وَعَافِيَتَكَ

व अर्ज़ूक्नी शुक'रका व आफ़ि'यतेका

और मुझे अपने शुक्र की तौफीक भी दे और अपनी तरफ से आफ़ियत अता फरमा

وَفَضْلَكَ وَكَرَامَتَكَ ابَداً مَا ابْقَيْتَنِي

व फ़ज़'लका व करा'मतेका अब्दन मा अब'क़ै-तनी 

और मेहरबानी से नवाज़, जब तक मैं ज़िन्दा हूँ,

اَللَّهُمَّ بِنُورِكَ ٱهْتَدَيْتُ

अल्लाहुम्मा बे नूरेका अहता'दय्तो 

ऐ माबूद! मुझे तेरे नूर से हिदायत

وَبِفَضْلِكَ ٱسْتَغْنَيْتُ

व फ़ज्लेका अस्त्ग'नय्तो 

और तेरे फज़ल से तावान्गिरी मिली है

وَبِنِعْمَتِكَ اصْبَحْتُ وَامْسَيْتُ

व बे'ने-मतेका अस्बहतो व अमसय्तो 

तेरे नेमत के साथ मैंने सुबह की और शाम की है,

اللَّهُمَّ إِنِّي اشْهِدُكَ وَكَفَىٰ بِكَ شَهِيداً

अल्लाहुम्मा इन्नी उश्हेदोका व कफ़ा बेका शहीदन 

ऐ माबूद! मै तुझे गवाह बनाता हूँ और तेरी गवाही काफी है

وَاشْهِدُ مَلاَئِكَتَكَ وَانْبِيَاءَكَ وَرُسُلَكَ

व उश्हेदो मलाइकतेका व अम्बियाइका व रसूलेका 

और गवाह बनाता हूँ तेरे मलाइका अम्बिया रुसूलों

وَحَمَلَةَ عَرْشِكَ وَسُكَّانَ سَمَاوَاتِكَ وَارْضِكَ

व हमल्ता अरशेका व सुक्काना समा-वातेका व अरज़ेका

और तेरे अर्श के हामेलीन तेरे आसमानों और तेरी ज़मीन के रहने वालों

وَجَمِيعَ خَلْقِكَ

व जमी'आ खल्क़े'का

और तेरी मखलूक को

بِانَّكَ انْتَ ٱللَّهُ لاَ إِلٰهَ إِلاَّ انْتَ

बे'इन्नका अन्ता अल्लाहो ला इलाहा इल्ला अन्ता

इस बात पर की यकीनन तू ही अल्लाह है,

وَحْدَكَ لاَ شَرِيكَ لَكَ

वह'दका ला शरीका'लका 

तेरे सिवा कोई माबूद नहीं, तू यकता है तेरा कोई सानी नहीं

وَانَّ مُحَمَّداً صَلَّىٰ ٱللَّهُ عَلَيْهِ وَآلِهِ عَبْدُكَ وَرَسُولُكَ

व अन्ना मोहम्मदन सल्लल-लाहो अलैहे व आलेही अब्दोका व रसूलोका 

और इस पर की हज़रत मोहम्मद (स:अव:व) तेरे बन्दे और तेरे रसूल हैं

وَانَّكَ عَلَىٰ كُلِّ شَيْ ءٍ قَدِيرٌ

व इन्नका अला कुल्ले शैयिन क़दीर 

और बेशक तू हर चीज़ पर कादिर है

تُحْيِي وَتُمِيتُ وَتُمِيتُ وَتُحْيِي

तुही'यी व तुमीतो व तुमीतो व तुही'यी

तू ही जिन्दा करता है और मौत देता है और मौत देता है और ज़िन्दा करता है

وَاشْهَدُ انَّ ٱلْجَنَّةَ حَقٌّ

व अश'हदों अन्नल जन्नता हक़्क़ो

मैं गवाही देता हूँ की जन्नत हक़ है

وَانَّ ٱلنَّارَ حَقٌّ

व अन्नल नारा हक़्क़ुन

जहन्नुम हक़ है

وَانَّ ٱلنُّشُورَ حَقٌ

व अन्नल नशूरा हक़्क़ुन

क़ब्रों से जी उठना हक़ है,

وَٱلسَّاعَةَ آتِيَةٌ لاَ رَيْبَ فِيهَا

व अल्स'सा-अता आतैतुन ला-रेबा फ़ीहा

कयामत आने वाली है और इसमें कोई शक नहीं

وَانَّ ٱللَّهَ يَبْعَثُ مَنْ فِي ٱلْقُبُورِ

व अन्नल लाहा यब'असो मन फ़ी अल-क़बूरे

और ख़ुदा इसे ज़िंदा करेगा जो क़ब्र में हैं

وَاشْهَدُ انَّ عَلِيَّ بْنَ ابِي طَالِبٍ امِيرُ ٱلْمُؤْمِنِينَ حَقّاً حَقّاً

व अश'हदों अन्ना अलियब्ना अबी तालिबिन अमीरल मोमेनीना हक़्क़न हक़्क़न

और मैं गवाही देता हूँ की ईमाम अली (अ:स) इब्ने अबी तालिब मोमेनीन के बर'हक़ अमीर हैं

وَانَّ ٱلائِمَّةَ مِنْ وُلْدِهِ هُمُ ٱلائِمَّةُ ٱلْهُدَاةُ ٱلْمَهْدِيُّونَ

व अन्नल अ'इम्मता मिन वुल'देहि हुम अल-अ-इम्मतो अल-हुदातो अल-मह्दियुना

और यह की इनकी औलाद में से जो अ'इम्मह हैं वोही हिदायत याफ़ता हिदायत देने वाले हैं,

غَيْرُ ٱلضَّالِّينَ وَلاَ ٱلْمُضِلِّينَ

गैरो अल्ज़'ज़ालीना वला मुज़िल'लीना

वोह न गुमराह हैं और न गुमराह करने वाले हैं

وَانَّهُمْ اوْلِيَاؤُكَ ٱلْمُصْطَفَوْنَ

व अन्नाहुम औलिया'ओका अल-मुस्ताफूना

और यह की वोही तेरे चुने हुए औलिया और

وَحِزْبُكَ ٱلْغَالِبُونَ

व हिज़'बोका अल-गालेबूना

तेरी ग़लिब जमा'अत हैं,

وَصِفْوَتُكَ وَخِيَرَتُكَ مِنْ خَلْقِكَ

व सिफ़'वतोका व खेया'रतोका मिन ख़ल'क़ेका

वोह तेरी मख्लूक़ में से बर'गुज़ीदाह

وَنُجَبَاؤُكَ ٱلَّذِينَ ٱنْتَجَبْتَهُمْ لِدِينِكَ

व नुजा'बी-ओका अल'लज़ीना अन्ता'जब तहुम ले-दीनेका 

और बेहतरीन अफ़राद हैं और वोह ऐसे शरीफ हैं जिनको तूने अपने दीन की खातिर चुना

وَٱخْتَصَصْتَهُمْ مِنْ خَلْقِكَ

व अख़'तसस-तहुम मिन ख़ल'क़ेका

और इन्हें अपने मख्लूक़ में ख़ास मर्तबा दिया

وَٱصْطَفَيْتَهُمْ عَلَىٰ عِبَادِكَ

व अस्तफ़ै-तहुम अला इबादेका

तूने इन्हें अपने बन्दों में से मुन्तखब किया

وَجَعَلْتَهُمْ حُجَّةً عَلَىٰ ٱلْعَالَمِينَ

व जा'अल्ताहुम हुज्जतन अलल आलामीन

और इनको आलमीन के लिए अपनी हुज्जत क़रार दिया,

صَلَوَاتُكَ عَلَيْهِمْ وَٱلسَّلاَمُ وَرَحْمَةُ ٱللَّهِ وَبَرَكَاتُهُ

सल्वातोका अलैहिम व अल्स-सलामो व रहमतुल-लाहे व बराकातोहू


 

इनपर तेरा दरूद-ओ-सलाम हो, और इनपर खुदा की रहमत और बरकात हों,  

اللَّهُمَّ ٱكْتُبْ لِي هٰذِهِ ٱلشَّهَادَةَ عِنْدَكَ

अल्लाहुम्मा अकतुब-ली हाज़ेही अल्श'शहादता इन्दका

 

ऐ माबूद! मेरी यह गवाही अपने यहाँ दर्ज फ़रमा ले

حَتَّىٰ تُلَقِّنَنِيهَا يَوْمَ ٱلْقِيَامَةِ وَانْتَ عَنِّي رَاضٍ

हत्ता तुल्क़ा-क़न-नानीहा यौमल क़ियामते व अन्ता अन्ना राज़िन

ताकि कयामत के दिन इअकि तलक़ीन करे और तू मुझ से राज़ी हो जाए,

إِنَّكَ عَلَىٰ مَا تَشَاءُ قَدِيرٌ

इन्नका अला मा तशा-ओ क़दी'रुन

बेशक तू हर इस चीज़ पर जो तू चाहे कादिर है,

اللَّهُمَّ لَكَ ٱلْحَمْدُ حَمْداً يَصْعَدُ اوَّلُهُ وَلاَ يَنْفَدُ آخِرُهُ

अल्लाहुम्मा लका अलहम्दो हम्दन यस'अदो अव्वालोहू व ला यन'फ़दो आखेरोहू

ऐ माबूद! तेरे लिए हम्द है जिसका पहला हिस्सा बुलंद होता है और आखरी खत्म होने वाला नहीं,

اللَّهُمَّ لَكَ ٱلْحَمْدُ حَمْداً تَضَعُ لَكَ ٱلسَّمَاءُ كَنَفَيْهَا

अल्लाहुम्मा लका अलहम्दो हम्दन तज़ा'उ लका अल्स'समा-ओ कना'फ़ैहा

ऐ माबूद! हम्द तेरे ही लिए है, ऐसी हम्द की आसमान तेरे आगे अपने शाने झुका दे

وَتُسَبِّحُ لَكَ ٱلارْضُ وَمَنْ عَلَيْهَا

व तुसब'बेहो लका अल-अर्ज़ो व मन अलैहा

और ज़मीन और जो इसपर है वोह तेरी तस्बीह करे,

اللَّهُمَّ لَكَ ٱلْحَمْدُ حَمْداً سَرْمَداً ابَداً

अल्लाहुम्मा लका अलहम्दो हम्दन सर'मदन अब्दन

ऐ माबूद! तेरे लिए हम्द है ऐसी हम्द जो हमेशा हमेशा जारी रहे

لاَ ٱنْقِطَاعَ لَهُ وَلاَ نَفَادَ

ला इनक़ा-ताआ लहू व ला नफ़ा'दा

जो न रूकती है न ख़तम होतो है

وَلَكَ يَنْبَغِي وَإِلَيْكَ يَنْتَهِي

व लका यन'बग़ी व इलैका यन'तहयी 

वोह तेरे ही लायक़ है और तुझी तक पहुँचती है

فِيَّ وَعَلَيَّ وَلَدَيَّ

फ़ीया व अलैय्या व लदैय्या

वोह मेरे दिल में ज़बान पर मेरे सामने  

وَمَعِي وَقَبْلِي وَبَعْدِي

व मा'यी व क़ल्बी व बा'अदी

मुझ से पहले मेरे बाद

وَامَامِي وَفَوْقِي وَتَحْتِي

व अमामी व फ़ौक़ी व तह'ती

मेरे पहलू में मेरे ऊपर और मेरे नीचे है,  

وَإِذَا مِتُّ وَبَقِيتُ فَرْداً وَحِيداً ثُمَّ فَنِيتُ

व इज़ा मिततो व बक़ी-तो फ़रदन वहीदन सुम्मा फ़नी-यतो 

जब मैं मरुँ और कब्र में तनहा हो जाऊं फिर ख़ाक दर ख़ाक हो जाऊं

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ إِذَا نُشِرْتُ وَبُعِثْتُ

व लका अल-हम्दो ईज़ा नुशिरतो व बू-इस्तो

और तेरे लिए हम्द है जब क़ब्र में उठ बैठूँ और खड़ा किया जाऊं,

يَا مَوْلاَيَ اللَّهُمَ وَلَكَ ٱلْحَمْدُ

या मौलाया अल्लाहुम्मा व लका अल-हम्दो


 

ऐ मौला, ऐ माबूद! हम्द और शुक्र तेरे ही लिए है

وَلَكَ ٱلشُّكْرُ بِجَمِيعِ مَحَامِدِكَ كُلِّهَا

व लका अल-शुक्रो बे जमी-ए महा'मिदेका कुल'लहा

तेरे तमाम व मुकम्मल  के साथ

عَلَىٰ جَمِيعِ نَعْمَائِكَ كُلِّهَا

अला जमी'ए नमा'इका कुल'लहा

तेरे सभी नेमतों पर

حَتَّىٰ يَنْتَهِيَ ٱلْحَمْدُ إِلَىٰ مَا تُحِبُّ رَبَّنَا وَتَرْضَىٰ

हत्ता यां'तहिया अलहम्दो इला मा तुहिब'बो रब'बना व तर'ज़ा 

हत्ता की हम्द वहाँ पहुंचे जहां तू चाहता है, ऐ हमारे रब जिस में तेरी रजा है,

اللَّهُمَّ لَكَ ٱلْحَمْدُ عَلَىٰ كُلِّ اكْلَةٍ وَشَرْبَةٍ

अल्लाहुम्मा लका अल-हम्दो अला कुल्ले अक'लतिन व शर'बतिन

ऐ माबूद! तेरे लिए हम्द है तमाम अशिया-अ ख़ुर्द-ओ-नोश पर,

وَبَطْشَةٍ وَقَبْضَةٍ

व बत'शातिन व क़ब'ज़तिन

ज़ोर-ओ-ताक़त

وَبَسْطَةٍ وَفِي كُلِّ مَوْضِعِ شَعْرَةٍ

व बस'तातिन व फ़ी कुल्ला मौज़े-ए श'अ-रतिन

और पकड़ने व खोलने और जिस्म के हर बाल बाल पर,

اللَّهُمَّ لَكَ ٱلْحَمْدُ حَمْداً خَالِداً مَعَ خُلُودِكَ

अल्लाहुम्मा लका अलहम्दो हमदन खालेदान मा-आ खोलूदेका

तेरी हम्द है, ऐ माबूद! तेरे लिए हम्द है हमेशा की हम्द तेरे दवाम के साथ 

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ حَمْداً لاَ مُنْتَهَىٰ لَهُ دُونَ عِلْمِكَ

व लका अलहम्दो हमदन ला मुन्तहा लहू दूना इल्मेका 

तेरे लिए हम्द है ऐसी हम्द जिसकी तेरे ईल्म के अलावा कहीं इन्तेहा नहीं

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ حَمْداً لاَ امَدَ لَهُ دُونَ مَشِيَّتِكَ

व लका अलहम्दो हमदन ला अमादा लहू दूना मशी'यतेका

तेरे लिए हम्द है जिसकी मुददत तेरी मशीयत से सिवा नहीं है

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ حَمْداً لاَ اجْرَ لِقَائِلِهِ إِلاَّ رِضَاكَ

व लका अलहम्दो हमदन ला अजरा ले क़ायेलेहॆ इल्ला रिज़ाका 

तेरे लिए हम्द है की हम्द करने वाले का अजर तेरी रज़ा के अलावा नहीं

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ عَلَىٰ حِلْمِكَ بَعْدَ عِلْمِكَ

व लका अलहम्दो अला हिल्मेका बा'अदा इल्मेका

तेरे लिए हम्द है जो जानते हुए भी नरमी करता है

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ عَلَىٰ عَفْوِكَ بَعْدَ قُدْرَتِكَ

व लका अलहम्दो अला अफ़'वेका बा'अदा क़ुद'रतेका

तेरे लिए हम्द है  की क़ुव्वत के बा'वजूद दर'गुज़र फरमाता है

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ بَاعِثَ ٱلْحَمْدِ

व लका अलहम्दो बायेसा अलहम्दो 

तेरे लिए हम्द है तो वजहे हम्द है

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ وَارِثَ ٱلْحَمْدِ

व लका अलहम्दो वारेसा अलहम्दो

तेरे लिए हम्द है की तो मालिके हम्द है  

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ بَدِيعَ ٱلْحَمْدِ

व लका अलहम्दो बदी' अलहम्दो

तेरे लिए हम्द है की तुझे से इब्तेदाए हम्द है,

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ مُنْتَهَىٰ ٱلْحَمْدِ

व लका अलहम्दो मुन्ताहा अलहम्दो

 

और तेरे लिए हम्द है की तुझ से इन्हेआए हम्द है

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ مُبْتَدِعَ ٱلْحَمْدِ

व लका अलहम्दो मुब्तादे-आ अलहम्दो

तेरे लिए हम्द है की तू हम्द का आग़ाज़ करने वाला है,

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ مُشْتَرِيَ ٱلْحَمْدِ

व लका अलहम्दो मुशतारे-आ अलहम्दो

तेरे लिए हम्द है की तू खरीदार-ए-हम्द है

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ وَلِيَّ ٱلْحَمْدِ

व लका अलहम्दो वली-आ अलहम्दो

तेरे लिए हम्द है की तू निगहबान-ए-हम्द है

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ قَدِيمَ ٱلْحَمْدِ

व लका अलहम्दो क़दीम' अलहम्दो

तेरे लिए हम्द है की तू क़दीमि हम्द वाला है,

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ صَادِقَ ٱلْوَعْدِ وَفِيَّ ٱلْعَهْدِ

व लका अलहम्दो सादेक़ा अल-वा'अदी व फ़ी-अल'अहदे

और तेरे लिए हम्द है की तू वादे में सच्चा अहद पक्का है

عَزِيزَ ٱلْجُنْدِ قَائِمَ ٱلْمَجْدِ

अज़ीज़ अल-जुन्दे क़ा'ईमा अल-मज्दे

तवाना लश्कर ला'पायेदार बुज़ूर्गी वाला,

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ رَفِيعَ ٱلدَّرَجَاتِ مُجِيبَ ٱلدَّعَوَاتِ

व लका अलहम्दो रफ़ी'अ अल्द'दर्जाते मुजीबा अल्द'दावाते

और तेरे लिए हम्द है की तू ऊंचे दरजों वाला है, दुआएँ कबूल करने वाला है

مُنَزِّلَ ٱلآيَاتِ مِنْ فَوْقِ سَبْعِ سَمَاوَاتٍ

मुन्ज़,ज़ला अल'आयाते मिन फ़ौक़े सब'ए समावातिन

सातों आसमान से बुल्न्द्तर मुक़ाम से आयात नाजिल करने वाला है,

عَظِيمَ ٱلْبَرَكَاتِ

अज़ीम अल'बरकाते

बड़ी बरकतों वाला है

مُخْرِجَ ٱلنُّورِ مِنَ ٱلظُّلُمَاتِ

मुखरिजा अल्न'नूरे मं अल-ज़ूलुमाते

नूर को तारीकियों से निकालने वाला

وَمُخْرِجَ مَنْ فِي ٱلظُّلُمَاتِ إِلَىٰ ٱلنُّورِ

व मुखरिजा मन फ़ी अल-ज़ुलुमाते ईला अल्न'नूरे

तारीकियों में पड़े को रौशनी में लाने वाला

مُبَدِّلَ ٱلسَّيِّئَاتِ حَسَنَاتٍ

मुबद-दला अल'सैय्याते हसनातिन

गूनाहों को नेकियों में बदलने वाला,

وَجَاعِلَ ٱلْحَسَنَاتِ دَرَجَاتٍ

व जा'एला अल-हस्नाते दरजातिन

नेकियों को बुलंद मरातिब में बदलने वाला है,

اَللَّهُمَّ لَكَ ٱلْحَمْدُ غَافِرَ ٱلذَّنْبِ وَقَابِلَ ٱلتَّوْبِ

अल्लाहुम्मा लका अल'हम्दो गाफ़ेरा अल्ज़'ज़नाबे  क़ाबिले अल्त'तुबे

ऐ माबूद! तेरे लिए हम्द है की तू गुनाह माफ़ करने वाला तौबा कबूल करने वाला

شَدِيدَ ٱلْعِقَابِ ذَا ٱلطَّوْلِ

शदीद अल-अक़ाबे ज़ा'अल्त-तूले

सख्त अज़ाब देने वाला और अता करने वाला है,

لاَ إِلٰهَ إِلاَّ انْتَ إِلَيْكَ ٱلْمَصِيرُ

ला इलाहा इल्ला अन्ता इलैका अल-मसीरो

तेरे सिवा कोई माबूद नहीं बाज़'गुज़श्त तेरी ही तरफ है,

اَللَّهُمَّ لَكَ ٱلْحَمْدُ فِي ٱللَّيْلِ إِذَا يَغْشَىٰ

अल्लाहुम्मा लका अल'हम्दो फ़ी अल'लैले ईज़ा यग़शा

ऐ माबूद! तेरे लिए हम्द है रात में जब वोह छा जाए

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ فِي ٱلنَّهَارِ إِذَا تَجَلَّىٰ

व लका अल'हम्दो फ़ी अल्न'नहारे ईज़ा तजल'ला

तेरे लिए हम्द है दिन में जब वोह रौशन  हो जाए

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ فِي ٱلآخِرَةِ وَٱلاولَىٰ

व लका अल'हम्दो फ़ी अल-आखेरते व अल-उला

तेरे लिए हम्द है दुन्या व आख़ेरत में

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ عَدَدَ كُلِّ نَجْمٍ وَمَلَكٍ فِي ٱلسَّمَاءِ

व लका अल'हम्दो अ'ददा कुल्ला नजमिन व मलेकिन फ़ी अल्स'समाये

तेरे लिए हम्द है आसमान के सितारों और फ़रिशतों की तादाद के बराबर

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ عَدَدَ ٱلثَّرَىٰ وَٱلْحَصَىٰ وَٱلنَّوَىٰ

व लका अल'हम्दो अ'ददा अल्स'सरा व अल'हसा व अल'नवा

तेरे लिए हम्द है ख़ाक और रेत के ज़ररों और फलों की गुठलियों की तादाद के बराबर

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ عَدَدَ مَا فِي جَوِّ ٱلسَّمَاءِ

व लका अल'हम्दो अ'ददा माफ़ी जव्वा अल्स'समाए

तेरे लिए हम्द है फ़ज़ा आसमान में मौजूद चीज़ों की तादाद के बराबर

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ عَدَدَ مَا فِي جَوْفِ ٱلارْضِ

व लका अल'हम्दो अ'ददा जव्फ़ी अल-अरज़े

तेरे लिए हम्द है तहे ज़मीन में मौजूद चीज़ों की तादाद के बराबर

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ عَدَدَ اوْزَانِ مِيَاهِ ٱلْبِحَارِ

व लका अल'हम्दो अ'ददाऔज़ाने मीयाहे अल'बेहारे

तेरे लिए हम्द है समुन्दरों के पानी के वज़न के बराबर,

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ عَدَدَ اوْرَاقِ ٱلاشْجَارِ

व लका अल'हम्दो अ'ददाऔराक़े अल'शजारे

तेरे लिए हम्द है दरख्तों की पत्तियों की तादाद के बराबर,

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ عَدَدَ مَا عَلَىٰ وَجْهِ ٱلارْضِ

व लका अल'हम्दो अ'ददा मा'अला वज्ही अल-अरज़े

तेरे लिए हम्द हैज़मीन पर मौजूद चीज़ों की तादाद के बराबर,

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ عَدَدَ مَا احْصَىٰ كِتَابُكَ

व लका अल'हम्दो अ'ददा मा अहसा किताबोका

तेरे लिए हम्द है तेरी किताब में मौजूद तादाद के बराबर,

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ عَدَدَ مَا احَاطَ بِهِ عِلْمُكَ

व लका अल'हम्दो अ'ददा मा अहाता बेहि इल्मोका

तेरे लिए हम्द है तेरे ईल्म में मौजूद तादाद के बराबर,

وَلَكَ ٱلْحَمْدُ عَدَدَ ٱلإِنْسِ وَٱلْجِنِّ

व लका अल'हम्दो अ'ददा इअ-इन्से व अल'जिन्ने,

तेरे लिए हम्द है इंसानों, जिन्नों,

وَٱلْهَوَامِّ وَٱلطَّيْرِ وَٱلْبَهَائِمِ وَٱلسِّبَاعِ

व अल-हव-अम्मा व अल्त'तीरे व अल-बहा'ईमे व अल्स'सबाए,

हशरात परिन्दों, चरिन्दों, और दरिन्दों की तादाद के बराबर

حَمْداً كَثِيراً طَيِّباً

हमदन कसीरन तैय्येबन,

बहुत ज़्यादा पाक और बा'बरकत हम्द,

مُبَارَكاً فِيهِ كَمَا تُحِبُّ رَبَّنَا وَتَرْضَىٰ

मुबाराकन फ़ीहे कमा तुहिब-बो रब'बना व तरज़ा,

ऐ परवर्दिगार तुझे पसंद और जिस पर तू राज़ी हो

وَكَمَا يَنْبَغِي لِكَرَمِ وَجْهِكَ وَعِزِّ جَلاَلِكَ

व कमा यन'बग़ी ले'करमे वज'हेका व ईज़'ज़ा जलालेका 

और जैसी हम्द तेरी शान करम और तेरी जलालत के लायेक़ है!

फिर इन दुआओं को 10-10 मर्तबा पढ़ें :

لاَ إِلٰهَ إِلاَّ ٱللَّهُ وَحْدَهُ لاَ شَرِيكَ لَهُ لَهُ ٱلْمُلْكُ وَلَهُ ٱلْحَمْدُ وَهُوَ ٱللَّطِيفُ ٱلْخَبِيرُ

ला इलाहा इलल लाहो वह'दहु ला शरीका लहू, लहू अल-मुल्को  व लहू अल'हम्दो व होवा अल'लतीफ़ो अल'ख़बीरो

अल्लाह की सिवा कोई माबूद नहीं, जो यकता है जिसका कोई सानी नहीं इसके लिए मुल्क है ईसी के लिए हम्द है और वोह बारीक'बीन ख़बरदार है

 لاَ إِلٰهَ إِلاَّ اللَّهُ وَحْدَهُ لاَ شَرِيكَ لَهُ لَهُ ٱلْمُلْكُ وَلَهُ ٱلْحَمْدُ يُحْيِي وَيُمِيتُ وَيُمِيتُ وَيُحْيِي وَهُوَحَيٌّ لاَ يَمُوتُ بِيَدِهِ ٱلْخَيْرُ وَهُوَ عَلَىٰ كُلِّ شَيْءٍ قَدِيرٌ

ला इलाहा इलल'लाहो वह्दहू ला शरीका लहू, लहू अल्मुलको व लहू अल'हम्दो यूह'यी व युमीतो व युमीतो व यूह'यी व हुवा हय्यो ला यमूतो ब्यादेही अल'खैरो व होवा अला कुल्ले शै'इन क़दीरून

 

अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं जो यकता है जिसका कोई सानी नहीं इसके लिए मुल्क है और इसीके लिए हम्द है जो ज़िन्दा करता है और मारता है, मारता है और ज़िन्दा करता है और ज़िन्दा है जिसे मौत नहीं इसीके हाथ में ख़ैर है और वोह हर चीज़ पर कादिर है

 اسْتَغْفِرُ ٱللَّهَ ٱلَّذِي لاَ إِلٰهَ إِلاَّ هُوَ ٱلْحَيُّ ٱلْقَيُّومُ وَاتُوبُ إِلَيْه

अस्तग'फ़िरो अल्लाहा अल'लज़ी ला इलाहा इल्ला होवा अल'हैय्यो अल'क़य्युमो व अतूबो इलैह

 

मैं अल्लाह से बख्शीश चाहता हूँ जिसके सिवा कोई माबूद नहीं वोह ज़िन्दा-ओ-पाइन्दा है और ईसी के हुज़ूर तौबा करता हूँ

 يَا ٱللَّهُ يَا ٱللَّهُ

या अल्लाहोया अल्लाहो 

या अल्लाह या अल्लाह!

 يَا رَحْمٰنُ يَا رَحْمٰنُ

या रहमानोया रहमानो

 

ऐ रहमत करने वाले ऐ रहमत करने वाले!

 يَا رَحِيمُ يَا رَحِيمُ

या रहीमोया रहीमो

 

ऐ मेहरबान ऐ मेहरबान!

 يَا بَدِيعَ ٱلسَّمَاوَاتِ وَٱلارْضِ

या बदी'आ अल्स'समावाते व अल'अर्ज़ 

 

ऐ आसमानों और ज़मीन को पैदा करने वाले!

 يَا ذَا ٱلْجَلاَلِ وَٱلإِكْرَامِ

या ज़'अल-जलाले व अल-इकरामे 

ऐ साहिबे जलालत व बुज़ूर्गी वाले

 يَا حَنَّانُ يَا مَنَّانُ

या हन्नानो, या मन्नानो 

ऐ मेहरबानी करने वाले ऐ एहसान करने वाले !

 يَا حَيُّ يَا قَيُّومُ

या हैय्यो, या क़य्युमो 

ऐ ज़िन्दा-ओ-पाइन्दा !

يَا حَيُّ لاَ إِلٰهَ إِلاَّ انْتَ

या हैय्यो ला इलाहा इल्ला अन्ता 

ऐ ज़िन्दा के तेरे सिवा कोई माबूद नहीं

 يَا ٱللَّهُ يَا لاَ إِلٰهَ إِلاَّ انْتَ

या अल्लाहो या ला इलाहा इल्ला अन्ता 

ऐ अल्लाह! ऐ वोह ज़ात की तेरे सिवा कोई माबूद नहीं, !

 بِسْمِ ٱللَّهِ ٱلرَّحْمٰنِ ٱلرَّحِيمِ

बिस्मिल्लाहिर रहमानिर रहीम 

खुदा के नाम से जो बड़ा मेहरबान निहायत रहम करने वाला है

اللَّهُمَّ صَلِّ عَلَىٰ مُحَمَّدٍ وَآلِ مُحَمَّدٍ

अल्लाहुम्मा सल्ले अला मोहम्मदीन व आले मोहम्मद 

 

ऐ माबूद! मोहम्मद और आले मोहम्मद पर रहमत नाजिल फ़रमा

 اللَّهُمَّ ٱفْعَلْ بِي مَا انْتَ اهْلُهُ

अल्लाहुम्मा अफ़'अल बी मा अन्ता अहलोहू 

ऐ माबूद मेरे साथ वोह बर्ताव कर जिसका तू अहल है,

 آمِينَ آمِينَ

आमीन, आमीन 

 ऐसा ही हो, ऐसा ही हो

قُلْ هُوَ ٱللَّهُ احَدٌ

क़ुल'होवल लाहो अहद 

कह अल्लाह एक है

फिर आप यह कहें :

اللَّهُمَّ ٱصْنَعْ بِي مَا انْتَ اهْلُهُ

अल्लाहुम्मा अस्ना'अ बी मा अन्ता अहलोहू 

ऐ माबूद मेरे साथ वोह बर्ताव कर जिसका तू अहल है

وَلاَ تَصْنَعْ بِي مَا انَا اهْلُهُ

व ला तस्ना'अ बी मा अना अहलोहू 

और मुझ से वोह न कर जिसका मैं अहल हूँ,

فَإِنَّكَ اهْلُ ٱلتَّقْوَىٰ وَاهْلُ ٱلْمَغْفِرَةِ

फ़ा इन्नका अहलो अल्त'तक़्वा व अहलो अल मग्फ़ेरते 

बेशक तू बचाने वाला और बख्शने वाला है

وَانَا اهْلُ ٱلذُّنُوبِ وَٱلْخَطَايَا

व अना अहलो अल्ज़-ज़ोनूबे व अल-ख़ताया 

और मैं  गुनाह करने वाला और खतायें करने वाला हूँ

فَٱرْحَمْنِي يَا مَوْلاَيَ

फ़ा' अर-हम्नी या मौलाया 

बस रहम कर मुझ पर ऐ मेरे मौला

وَانْتَ ارْحَمُ ٱلرَّاحِمِينَ

व अन्ता अरहमर राहेमीना 

 

और तू सबसे ज़यादा रहम करने वाला है

फिर इसे 10 मर्तबा कहें:

لاَ حَوْلَ وَلاَ قُوَّةَ إِلاَّ بِٱللَّهِ

ला हौला व ला क़ुव्वता ईल्ला बिल्लाहे 

कोई ताक़त व कुव्वत नहीं सिवाए इसके जो अल्लाह की तरफ से है,

تَوَكَّلْتُ عَلَىٰ ٱلْحَيِّ ٱلَّذِي لاَ يَمُوتُ

तवक'कल्तो अला अल-हैय्या अल-लज़ी ला यमूतो 

भरोसा रखता हूँ इस ज़िन्दा पर जिसे मौत नहीं

وَٱلْحَمْدُ لِلَّهِ ٱلَّذِي لَمْ يَتَّخِذْ وَلَداً

व अल-हम्दो लील'लाहिल लज़ी लम यत्ता'खिज़ वला'दन

और हम्द है इस अल्लाह के लिए जिसने किसी को बेटा नहीं बनाया

وَلَمْ يَكُنْ لَهُ شَرِيكٌ فِي ٱلْمُلْكِ

व लम यकून लहू शरीको फ़ी अल-मुल्के 

और न कोई इसकी हुकूमत में शरीक है

وَلَمْ يَكُنْ لَهُ وَلِيٌّ مِنَ ٱلذُّلِّ

व लम यकून लहू वालिय्युं मिन अल्ज़'ज़ूल्ला 

और न कोई इसका मददगार है

وَكَبِّرْهُ تَكْبِيراً

व कब्बरहू तकबीरन 

'वजह इसके अज्ज़ के, और इसकी बड़ाई ब्यान करते रहा करो

 

दुसरे फौरमैट में

 

बिस्मिल्लाहिर रहमानिर रहीम

بِسْمِ اللَّهِ الرَّحْمَنِ الرَّحِيْم

 

सुबहान अल्लाहे वल हम्दो लिल्लाहे व ला इलाहा इलल लाहो वल लाहो अकबर व ला हौला वला क़ुव्वता इल्ला बिल्लाहिल अलियुल अज़ीम सुबहान अल्लाहे अन'ना अल'लैले व अतराफ़ अल्न-नहारे सुबहान अल्लाहे बिल-गुदुवी वल'असाले सुबहान अल्लाहे बिल अशी'यी वल'इब्कारे सुबहान अल्लाहे हीना व हीना तुसबेहूना व लहू अलहम्दो फी अल्स-समावाते फ़िल-अर्ज़ व अशीयन व हैना तुज़'हेरूना युखरेजो अल'हैय्या मिनल-मैय्यते व युखरेजो अल-मैय्येता मिनल हय्यी व युही'अल अर्ज़ा बा'अदा मौतेहा व कज़ालिका तुखरेजूना सुब्हाना रब्बेका रब्बिल इज्ज़ते अम्मा यसेफूना व सलामुल अला अल'मुर-सलीना वल हम्दो लिल्लाहे रब्बिल आलामीन सुब्हाना ज़ी'अल्मुल्के वल'मल्कूते सुब्हाना ज़ी'अल-इज्ज़ते वल-जब्र्रूत सुब्हाना ज़ी'अल-किब्रियाए वल-अज़ा'मते अल-मलेके अल-हक़्क़े अल-मोहीमिने अल-कुददूसे सुबहान अल्लाहे अल-मलेके अल-हय्युल लज़ी ला यमूतो सुबहान अल्लाहे अल-मलेके अल-हय्यी अल-कुददूसे सुब्हाना अल-क़ायेमे ल्द'दायेमे सुब्हाना अल्द'दायेमे अल-क़ायेमे सुब्हाना रब्बियल अज़ीम सुब्हाना रब्बियल आ'अला सुब्हाना अल्हय्यो अल-क़य्युमो सुब्हाना अल-अलिय्यी अल-आला सुब्हानाहू व तअ'आला सुबबूहून क़ुद'दूसून रब'बना रब्बुल मलाइकते वर रूह सुब्हाना अल'दाइमे गैरिल गाफ़िले सुब्हाना अल-आलिमे बगैरे तालीमिन सुब्हाना अल-खालिक़े मा युरा व मा ला युरा सुब्हाना अल-लज़ी युदरिकल अब्सारा वला तुदरेकोहू अल-अब्सारो व होवा अल'लतीफ़ो अल-खैरों अल्लाहुम्मा इन्नी अस'बहतो मिनका फी ने'मतीन फ़ी खैरिन व बराकातिन व आफ़िया'तिन 'सल्ले अला मोहम्मदीन व आलेही व अतमिम अलैय्या ने'मतेका व खैरेका व बराकातेका व आफ़ि'यतेका बे नेजातिन मिन अल्न-नारेव अर्ज़ूक्नी शुक'रका व आफ़ि'यतेका व फ़ज़'लका व करा'मतेका अब्दन मा अब'क़ै-तनी  अल्लाहुम्मा बे नूरेका अहता'दय्तो व फ़ज्लेका अस्त्ग'नय्तो व बे'ने-मतेका अस्बहतो व अमसय्तो अल्लाहुम्मा इन्नी उश्हेदोका व कफ़ा बेका शहीदन व उश्हेदो मलाइकतेका व अम्बियाइका व रसूलेका व हमल्ता अरशेका व सुक्काना समा-वातेका व अरज़ेका व जमी'आ खल्क़े'का बे'इन्नका अन्ता अल्लाहो ला इलाहा इल्ला अन्ता वह'दका ला शरीका'लका व अन्ना मोहम्मदन सल्लल-लाहो अलैहे व आलेही अब्दोका व रसूलोका व इन्नका अला कुल्ले शैयिन क़दीर तुही'यी व तुमीतो व तुमीतो व तुही'यी व अश'हदों अन्नल जन्नता हक़्क़ो व अन्नल नारा हक़्क़ुन व अन्नल नशूरा हक़्क़ुन व अल्स'सा-अता आतैतुन ला-रेबा फ़ीहा व अन्नल लाहा यब'असो मन फ़ी अल-क़बूरे व अश'हदों अन्ना अलियब्ना अबी तालिबिन अमीरल मोमेनीना हक़्क़न हक़्क़न व अन्नल अ'इम्मता मिन वुल'देहि हुम अल-अ-इम्मतो अल-हुदातो अल-मह्दियुना गैरो अल्ज़'ज़ालीना वला मुज़िल'लीना व अन्नाहुम औलिया'ओका अल-मुस्ताफूना व हिज़'बोका अल-गालेबूना व सिफ़'वतोका व खेया'रतोका मिन ख़ल'क़ेका व नुजा'बी-ओका अल'लज़ीना अन्ता'जब तहुम ले-दीनेका व अख़'तसस-तहुम मिन ख़ल'क़ेका व अस्तफ़ै-तहुम अला इबादेका व जा'अल्ताहुम हुज्जतन अलल आलामीन सल्वातोका अलैहिम व अल्स-सलामो व रहमतुल-लाहे व बराकातोहू अल्लाहुम्मा अकतुब-ली हाज़ेही अल्श'शहादता इन्दका हत्ता तुल्क़ा-क़न-नानीहा यौमल क़ियामते व अन्ता अन्ना राज़िन इन्नका अला मा तशा-ओ क़दी'रुन अल्लाहुम्मा लका अलहम्दो हम्दन यस'अदो अव्वालोहू व ला यन'फ़दो आखेरोहू अल्लाहुम्मा लका अलहम्दो हम्दन तज़ा'उ लका अल्स'समा-ओ कना'फ़ैहा व तुसब'बेहो लका अल-अर्ज़ो व मन अलैहा अल्लाहुम्मा लका अलहम्दो हम्दन सर'मदन अब्दन ला इनक़ा-ताआ लहू व ला नफ़ा'दा व लका यन'बग़ी व इलैका यन'तहयी फ़ीया व अलैय्या व लदैय्या व मा'यी व क़ल्बी व बा'अदी व अमामी व फ़ौक़ी व तह'ती व इज़ा मिततो व बक़ी-तो फ़रदन वहीदन सुम्मा फ़नी-यतो व लका अल-हम्दो ईज़ा नुशिरतो व बू-इस्तो या मौलाया अल्लाहुम्मा व लका अल-हम्दो व लका अल-शुक्रो बे जमी-ए महा'मिदेका कुल'लहा अला जमी'ए नमा'इका कुल'लहा हत्ता यां'तहिया अलहम्दो इला मा तुहिब'बो रब'बना व तर'ज़ा अल्लाहुम्मा लका अल-हम्दो अला कुल्ले अक'लतिन व शर'बतिन व बत'शातिन व क़ब'ज़तिन व बस'तातिन व फ़ी कुल्ला मौज़े-ए श'अ-रतिन अल्लाहुम्मा लका अलहम्दो हमदन खालेदान मा-आ खोलूदेका व लका अलहम्दो हमदन ला मुन्तहा लहू दूना इल्मेका व लका अलहम्दो हमदन ला अमादा लहू दूना मशी'यतेका व लका अलहम्दो हमदन ला अजरा ले क़ायेलेहॆ इल्ला रिज़ाका व लका अलहम्दो अला हिल्मेका बा'अदा इल्मेका व लका अलहम्दो अला अफ़'वेका बा'अदा क़ुद'रतेका व लका अलहम्दो बायेसा अलहम्दो व लका अलहम्दो वारेसा अलहम्दो व लका अलहम्दोबदी' अलहम्दो व लका अलहम्दो मुन्ताहा अलहम्दोव लका अलहम्दो मुब्तादे-आ अलहम्दोव लका अलहम्दो मुशतारे-आ अलहम्दोव लका अलहम्दो वली-आ अलहम्दोव लका अलहम्दो क़दीम' अलहम्दो,व लका अलहम्दो सादेक़ा अल-वा'अदी व फ़ी-अल'अहदे अज़ीज़ अल-जुन्दे क़ा'ईमा अल-मज्दे व लका अलहम्दो रफ़ी'अ अल्द'दर्जाते मुजीबा अल्द'दावाते मुन्ज़,ज़ला अल'आयाते मिन फ़ौक़े सब'ए समावातिन अज़ीम अल'बरकाते मुखरिजा अल्न'नूरे मं अल-ज़ूलुमाते व मुखरिजा मन फ़ी अल-ज़ुलुमाते ईला अल्न'नूरे मुबद-दला अल'सैय्याते हसनातिन व जा'एला अल-हस्नाते दरजातिन अल्लाहुम्मा लका अल'हम्दो गाफ़ेरा अल्ज़'ज़नाबे व क़ाबिले अल्त'तुबेशदीद अल-अक़ाबे ज़ा'अल्त-तूलेला इलाहा इल्ला अन्ता इलैका अल-मसीरोअल्लाहुम्मा लका अल'हम्दो फ़ी अल'लैले ईज़ा यग़शाव लका अल'हम्दो फ़ी अल्न'नहारे ईज़ा तजल'लाव लका अल'हम्दो फ़ी अल-आखेरते व अल-उलाव लका अल'हम्दो अ'ददा कुल्ला नजमिन व मलेकिन फ़ी अल्स'समायेव लका अल'हम्दो अ'ददा अल्स'सरा व अल'हसा व अल'नवाव लका अल'हम्दो अ'ददा माफ़ी जव्वा अल्स'समाएव लका अल'हम्दो अ'ददा जव्फ़ी अल-अरज़ेव लका अल'हम्दो अ'ददाऔज़ाने मीयाहे अल'बेहारेव लका अल'हम्दो अ'ददाऔराक़े अल'शजारेव लका अल'हम्दो अ'ददा मा'अला वज्ही अल-अरज़ेव लका अल'हम्दो अ'ददा मा अहसा किताबोकाव लका अल'हम्दो अ'ददा मा अहाता बेहि इल्मोकाव लका अल'हम्दो अ'ददा इअ-इन्से व अल'जिन्ने, व अल-हव-अम्मा व अल्त'तीरे व अल-बहा'ईमे व अल्स'सबाए, हमदन कसीरन तैय्येबन, मुबाराकन फ़ीहे कमा तुहिब-बो रब'बना व तरज़ा, व कमा यन'बग़ी ले'करमे वज'हेका व ईज़'ज़ा जलालेका 

 

फिर इन दुआओं को 10-10 मर्तबा पढ़ें :

ला इलाहा इलल लाहो वह'दहु ला शरीका लहू, लहू अल-मुल्को  व लहू अल'हम्दो व होवा अल'लतीफ़ो अल'ख़बीरो  ला इलाहा इलल'लाहो वह्दहू ला शरीका लहू, लहू अल्मुलको व लहू अल'हम्दो यूह'यी व युमीतो व युमीतो व यूह'यी व हुवा हय्यो ला यमूतो ब्यादेही अल'खैरो व होवा अला कुल्ले शै'इन क़दीरून, अस्तग'फ़िरो अल्लाहा अल'लज़ी ला इलाहा इल्ला होवा अल'हैय्यो अल'क़य्युमो व अतूबो इलैह या अल्लाहोया अल्लाहो 

या रहमानोया रहमानो

या रहीमोया रहीमो

या बदी'आ अल्स'समावाते व अल'अर्ज़ 

या ज़'अल-जलाले व अल-इकरामे 

या हन्नानो, या मन्नानो 

या हैय्यो, या क़य्युमो 

या हैय्यो ला इलाहा इल्ला अन्ता 

या अल्लाहो या ला इलाहा इल्ला अन्ता 

बिस्मिल्लाहिर रहमानिर रहीम 

अल्लाहुम्मा सल्ले अला मोहम्मदीन व आले मोहम्मद 

अल्लाहुम्मा अफ़'अल बी मा अन्ता अहलोहू 

आमीन, आमीन

क़ुल'होवल लाहो अहद 

 

फिर आप यह कहें :

अल्लाहुम्मा अस्ना'अ बी मा अन्ता अहलोहू व ला तस्ना'अ बी मा अना अहलोहू फ़ा इन्नका अहलो अल्त'तक़्वा व अहलो अल मग्फ़ेरते व अना अहलो अल्ज़-ज़ोनूबे व अल-ख़ताया फ़ा' अर-हम्नी या मौलाया व अन्ता अरहमर राहेमीना 

 

फिर इसे 10 मर्तबा कहें 

ला हौला व ला क़ुव्वता ईल्ला बिल्लाहे तवक'कल्तो अला अल-हैय्या अल-लज़ी ला यमूतो व अल-हम्दो लील'लाहिल लज़ी ला यमूतो  व अल-हम्दो लील'लाहिल लज़ी लम यत्ता'खिज़ वला'दन व लम यकून लहू शरीको फ़ी अल-मुल्के व लम यकून लहू वालिय्युं मिन अल्ज़'ज़ूल्ला व कब्बरहू तकबीरन 

 سُبْحَانَ اللَّهِ وَ الْحَمْدُ لِلَّهِ وَ لَا إِلٰهَ إِلَّا اللَّهُ وَ اللَّهُ أَكْبَرُ وَ لَا حَوْلَ وَ لَا قُوَّةَ إِلَّا بِاللَّهِ الْعَلِيِّ الْعَظِيْمِ سُبْحَانَ اللَّهِ آناءِ اللَّيْلِ وَ أَطْراَ النَّهارِ سُبْحَانَ اللَّهِ بِالْغُدُوِّ وَ الْآصالِ سُبْحَانَ اللَّهِ بِالْعَشِيِّ وَ الْإِبْكارِ سُبْحَانَ اللَّهِ حِيْنَ تُمْسُوْنَ وَ حِيْنَ تُصْبِحُوْنَ وَ لَهُ الْحَمْدُ فِي السَّمٰوَاتِ وَ الْأَرْضِ وَ عَشِيًّا وَ حِيْنَ تُظْهِرُوْنَ يُخْرِجُ الْحَيَّ مِنَ الْمَيِّتِ وَ يُخْرِجُ الْمَيِّتَ مِنَ الْحَيِّ وَ يُحْيِ الْأَرْضَ بَعْدَ مَوْتِها وَ كَذٰلِكَ تُخْرَجُوْنَ

 سُبْحَانَ رَبِّكَ رَبِّ الْعِزَّةِ عَمَّا يَصِفُوْنَ وَ سَلَامٌ عَلَى الْمُرْسَلِيْنَ وَ الْحَمْدُ لِلَّهِ رَبِّ الْعَالَمِيْنَ سُبْحَانَ ذِي الْمُلْكِ وَ الْمَلَكُوْتِ سُبْحَانَ ذِي الْعِزَّةِ وَ الْجَبَرُوْتِ سُبْحَانَ ذِي الْكِبْرِيَاءِ وَ الْعَظَمَةِ الْمَلِكِ الْحَقِّ الْمُبِيْنِ الْمُهَيْمِنِ الْقُدُّوْسِ سُبْحَانَ اللَّهِ الْمَلِكِ الْحَيِّ الَّذِيْ لَا يَمُوْتُ سُبْحَانَ اللَّهِ الْمَلِكِ الْحَيِّ الْقُدُّوْسِ سُبْحَانَ الْقَائِمِ الدَّائِمِ سُبْحَانَ الدَّائِمِ الْقَائِمِ سُبْحَانَ رَبِّيَ الْعَظِيْمِ سُبْحَانَ رَبِّيَ الْأَعْلَى سُبْحَانَ الْحَيِّ الْقَيُّوْمِ سُبْحَانَ الْعَلِيِ‏الْأَعْلٰى سُبْحَانَهٗ وَ تَعَالٰى سُبُّوْحٌ قُدُّوْسٌ رَبُّنَا وَ رَبُّ الْمَلَائِكَةِ وَ الرُّوْحِ سُبْحَانَ الدَّائِمِ غَيْرِ الْغَافِلِ سُبْحَانَ الْعَالِمِ بِغَيْرِ تَعْلِيْمٍ سُبْحَانَ خَالِقِ مَا يُرٰى وَ مَا لَا يُرٰى سُبْحَانَ الَّذِيْ يُدْرِكُ الْأَبْصَارَ وَ لَا تُدْرِكُهُ الْأَبْصَارُ وَ هُوَ اللَّطِيْفُ الْخَبِيْرُ

 اَللّٰهُمَّ إِنِّي أَصْبَحْتُ مِنْكَ فِيْ نِعْمَةٍ وَ خَيْرٍ وَ بَرَكَةٍ وَ عَافِيَةٍ فَصَلِّ عَلٰى مُحَمَّدٍ وَ آلِهٖ وَ أَتْمِمْ عَلَيَّ نِعْمَتَكَ وَ خَيْرَكَ وَ بَرَكَاتِكَ وَ عَافِيَتَكَ بِنَجَاةٍ مِنَ النَّارِ وَ ارْزُقْنِيْ شُكْرَكَ وَ عَافِيَتَكَ وَ فَضْلَكَ وَ كَرَامَتَكَ أَبَداً مَا أَبْقَيْتَنِيْ اَللّٰهُمَّ بِنُوْرِكَ اهْتَدَيْتُ وَ بِفَضْلِكَ اسْتَغْنَيْتُ وَ بِنِعْمَتِكَ أَصْبَحْتُ وَ أَمْسَيْتُ اَللّٰهُمَّ إِنِّيْ أُشْهِدُكَ وَ كَفٰى بِكَ شَهِيْداً وَ أُشْهِدُ مَلَائِكَتَكَ وَ أَنْبِيَاءَكَ وَ رُسُلَكَ وَ حَمَلَةَ عَرْشِكَ وَ سُكَّانَ سَمَاوَاتِكَ وَ أَرْضِكَ وَ جَمِيْعَ خَلْقِكَ بِأَنَّكَ أَنْتَ اللَّهُ لَا إِلٰهَ إِلَّا أَنْتَ وَحْدَكَ لَا شَرِيْكَ لَكَ وَ أَنَّ مُحَمَّداً عَبْدُكَ وَ رَسُوْلُكَ وَ أَنَّكَ عَلٰى كُلِّ شَيْ‏ءٍ قَدِيْرٌ تُحْيِيْ وَ تُمِيْتُ وَ تُمِيْتُ وَ تُحْيِيْ وَ أَشْهَدُ أَنَّ الْجَنَّةَ حَقٌّ وَ النَّارَ حَقٌّ وَ السَّاعَةَ آتِيَةٌ لا رَيْبَ فِيْهَا وَ أَنَّ اللَّهَ يَبْعَثُ مَنْ فِي الْقُبُوْرِ وَ أَشْهَدُ أَنَّ عَلِيَّ بْنَ أَبِي طَالِبٍ أَمِيْرُ الْمُؤْمِنِيْنَ حَقّاً حَقّاً وَ أَنَّ الْأَئِمَّةَ مِنْ وُلْدِهٖ هُمُ الْأَئِمَّةُ الْهُدَاةُ الْمَهْدِيُّوْنَ غَيْرُ الضَّالِّيْنَ وَ لَا الْمُضِلِّيْنَ وَ أَنَّهُمْ أَوْلِيَاؤُكَ الْمُصْطَفَوْنَ وَ حِزْبُكَ الْغَالِبُوْنَ وَ صَفْوَتُكَ وَ خِيَرَتُكَ مِنْ خَلْقِكَ وَ نُجَبَاؤُكَ الَّذِيْنَ انْتَجَبْتَهُمْ لِدِيْنِكَ وَ اخْتَصَصْتَهُمْ مِنْ خَلْقِكَ وَ اصْطَفَيْتَهُمْ عَلٰى عِبَادِكَ وَ جَعَلْتَهُمْ حُجَّةً عَلٰى الْعَالَمِيْنَ صَلَوَاتُكَ عَلَيْهِمْ أَجْمَعِيْنَ وَ السَّلَامُ عَلَيْكُمْ وَ رَحْمَةُ اللَّهِ وَ بَرَكَاتُهٗ اَللّٰهُمَّ اكْتُبْ لِي هٰذِهِ الشَّهَادَةَ عِنْدَكَ حَتّٰى تُلَقِّنِيْهَا وَ أَنْتَ عَنِّي رَاضٍ إِنَّكَ عَلٰى مَا تَشَاءُ قَدِيْرٌ اَللّٰهُمَّ لَكَ الْحَمْدُ حَمْداً يَصْعَدُ أَوَّلُهٗ وَ لَا يَنْفَدُ آخِرُهٗ اَللّٰهُمَّ لَكَ الْحَمْدُ حَمْداً تَضَعُ لَكَ السَّمَاءُ كَنَفَيْهَا وَ تُسَبِّحُ لَكَ الْأَرْضُ وَ مَنْ عَلَيْهَا اَللّٰهُمَّ لَكَ الْحَمْدُ حَمْداً سَرْمَداً أَبَداً لَا انْقِطَاعَ لَهٗ وَ لَا نَفَادَ وَ لَكَ يَنْبَغِيْ وَ إِلَيْكَ يَنْتَهِيْ فِيَّ وَ عَلَيَّ وَ لَدَيَّ وَ مَعِيْ وَ قَبْلِيْ وَ بَعْدِيْ وَ أَمَامِيْ وَ فَوْقِيْ وَ تَحْتِيْ وَ إِذَا مِتُّ وَ بَقِيْتُ فَرْداً وَحِيداً وَ لَكَ الْحَمْدُ إِذَا نُشِرْتُ وَ بُعِثْتُ يَا مَوْلَايَ اَللّٰهُمَّ وَ لَكَ الْحَمْدُ وَ لَكَ الشُّكْرُ بِجَمِيْعِ مَحَامِدِكَ كُلِّهَا عَلٰى جَمِيْعِ نَعْمَائِكَ كُلِّهَا حَتّٰى يَنْتَهِيَ الْحَمْدُ إِلَى مَا تُحِبُّ رَبَّنَا وَ تَرْضٰى اَللّٰهُمَّ لَكَ الْحَمْدُ عَلٰى كُلِّ أَكْلَةٍ وَ شَرْبَةٍ وَ بَطْشَةٍ وَ قَبْضَةٍ وَ فِي كُلِّ مَوْضِعِ شَعْرَةٍ اَللّٰهُمَّ لَكَ الْحَمْدُ حَمْداً خَالِداً مَعَ خُلُوْدِكَ وَ لَكَ الْحَمْدُ حَمْداً لَا أَمَدَ لَهُ دُوْنَ مَشِيَّتِكَ وَ لَكَ الْحَمْدُ حَمْداً لَا أَجْرَ لِقَائِلِهٖ إِلَّا رِضَاكَ وَ لَكَ الْحَمْدُ عَلٰى حِلْمِكَ بَعْدَ عِلْمِكَ وَ لَكَ الْحَمْدُ عَلٰى عَفْوِكَ بَعْدَ قُدْرَتِكَ وَ لَكَ الْحَمْدُ بَاعِثَ الْحَمْدِ وَ لَكَ الْحَمْدُ وَارِثَ الْحَمْدِ وَ لَكَ الْحَمْدُ بَدِيعَ الْحَمْدِ وَ لَكَ الْحَمْدُ مُنْتَهَى الْحَمْدِ وَ لَكَ الْحَمْدُ مُبْتَدِعَ الْحَمْدِ وَ لَكَ الْحَمْدُ مُشْتَرِيَ الْحَمْدِ وَ لَكَ الْحَمْدُ وَلِيَّ الْحَمْدِ وَ لَكَ الْحَمْدُ قَدِيمَ الْحَمْدِ وَ لَكَ الْحَمْدُ صَادِقَ الْوَعْدِ وَفِيَّ الْعَهْدِ عَزِيزَ الْجُنْدِ قَائِمَ الْمَجْدِ وَ لَكَ الْحَمْدُ رَفِيْعَ الدَّرَجَاتِ مُجِيبَ الدَّعَوَاتِ مُنْزِلَ الْآيَاتِ مِنْ فَوْقِ سَبْعِ سَمَاوَاتٍ الْعَظِيمَ الْبَرَكَاتِ مُخْرِجَ النُّوْرِ مِنَ الظُّلُمَاتِ وَ مُخْرِجَ مَنْ فِي الظُّلُمَاتِ إِلَى النُّوْرِ مُبَدِّلَ السَّيِّئَاتِ حَسَنَاتٍ وَ جَاعِلَ الْحَسَنَاتِ دَرَجَاتٍ اَللّٰهُمَّ لَكَ الْحَمْدُ غَافِرَ الذَّنْبِ وَ قَابِلَ التَّوْبِ شَدِيدَ الْعِقَابِ ذَا الطَّوْلِ لَا إِلٰهَ إِلَّا أَنْتَ إِلَيْكَ الْمَصِيرُ اَللّٰهُمَّ لَكَ الْحَمْدُ فِي اللَّيْلِ إِذا يَغْشى‏ وَ لَكَ الْحَمْدُ فِي النَّهارِ إِذا تَجَلَّى وَ لَكَ الْحَمْدُ فِي الْآخِرَةِ وَ الْأُوْلَى وَ لَكَ الْحَمْدُ عَدَدَ كُلِّ نَجْمٍ وَ مَلَكٍ فِي السَّمَاءِ وَ لَكَ الْحَمْدُ عَدَدَ الثَّرَى وَ الْحَصَى وَ النَّوَى وَ لَكَ الْحَمْدُ عَدَدَ مَا فِي جَوْفِ الْأَرْضِ وَ لَكَ الْحَمْدُ عَدَدَ أَوْزَانِ مِيَاهِ الْبِحَارِ وَ لَكَ الْحَمْدُ عَدَدَ أَوْرَاقِ الْأَشْجَارِ وَ لَكَ الْحَمْدُ عَدَدَ مَا عَلٰى وَجْهِ الْأَرْضِ وَ لَكَ الْحَمْدُ عَدَدَ مَا أَحْصَى كِتَابُكَ وَ لَكَ الْحَمْدُ عَدَدَ مَا أَحَاطَ بِهٖ عِلْمُكَ وَ لَكَ الْحَمْدُ عَدَدَ الْإِنْسِ وَ الْجِنِّ وَ الْهَوَامِّ وَ الطَّيْرِ وَ الْبَهَائِمِ وَ السِّبَاعِ حَمْداً كَثِيراً طَيِّباً مُبَارَكاً فِيهِ كَمَا تُحِبُّ رَبَّنَا وَ تَرْضَى وَ كَمَا يَنْبَغِي لِكَرَمِ وَجْهِكَ وَ عِزِّ جَلَالِكَ

 फिर इन दुआओं को 10-10 मर्तबा पढ़ें :

 

لَا إِلٰهَ إِلَّا اللَّهُ وَحْدَهُ لَا شَرِيكَ لَهُ لَهُ الْمُلْكُ وَ لَهُ الْحَمْدُ وَ هُوْ اللَّطِيفُ الْخَبِيرُ لَا إِلٰهَ إِلَّا اللَّهُ وَحْدَهُ لَا شَرِيكَ لَهُ لَهُ الْمُلْكُ وَ لَهُ الْحَمْدُ يُحْيِي وَ يُمِيتُ وَ يُمِيتُ وَ يُحْيِي وَ هُوَ حَيٌّ لَا يَمُوْتُ بِيَدِهِ الْخَيْرُ وَ هُوَ عَلٰى كُلِّ شَيْ‏ءٍ قَدِيْرٌ

أَسْتَغْفِرُ اللَّهَ الَّذِيْ لَا إِلٰهَ إِلَّا هُوَ الْحَيُّ الْقَيُّومُ وَ أَتُوبُ إِلَيْهِ‏

يَا اللَّهُ يَا اللَّهُ

يَا رَحْمَانُ يَا رَحْمَانُ

يَا رَحِيْمُ يَا رَحِيْمُ

يَا بَدِيْعَ السَّمَاوَاتِ وَ الْأَرْضِ

يَا ذَا الْجَلَالِ وَ الْإِكْرَامِ

يَا حَنَّانُ يَا مَنَّانُ

يَا حَيُّ يَا قَيُّوْمُ

يَا اللَّهُ لَا إِلٰهَ إِلَّا أَنْتَ

بِسْمِ اللَّهِ الرَّحْمَنِ الرَّحِيْمِ

اَللّٰهُمَّ صَلِّ عَلٰى مُحَمَّدٍ وَ آلِ مُحَمَّدٍ

اَللّٰهُمَّ افْعَلْ بِيْ مَا أَنْتَ أَهْلُهُ

آمِيْنَ آمِيْنَ

قُلْ هُوَ اللَّهُ أَحَدٌ

फिर आप यह कहें :

 

اَللّٰهُمَّ اصْنَعْ بِيْ مَا أَنْتَ أَهْلُهُ وَ لَا تَصْنَعْ بِيْ مَا أَنَا أَهْلُهُ فَإِنَّكَ أَهْلُ التَّقْوى‏ وَ أَهْلُ الْمَغْفِرَةِ وَ أَنَا أَهْلُ الذُّنُوْبِ وَ الْخَطَايَا فَارْحَمْنِيْ يَا مَوْلَايَ وَ أَنْتَ أَرْحَمُ الرَّاحِمِيْنَ

 

फिर इसे 10 मर्तबा कहें 

 

لَا حَوْلَ وَ لَا قُوَّةَ إِلَّا بِاللَّهِ تَوَكَّلْتُ عَلٰى الْحَيِّ الَّذِيْ لَا يَمُوْتُ الْحَمْدُ لِلَّهِ الَّذِيْ لَمْ يَتَّخِذْ وَلَداً وَ لَمْ يَكُنْ لَهُ شَرِيْكٌ فِي الْمُلْكِ وَ لَمْ يَكُنْ لَهُ وَلِيٌّ مِنَ الذُّلِّ وَ كَبِّرْهُ تَكْبِيْراً.

 

 

     
हिंदी तर्जुमा पढ़ें :

खुदा के नाम से (शुरू करता हूँ) जो बड़ा मेहरबान और निहायत रहम वाला है!

पाक है खुदा और हम्द खुदा के लिए ही है, अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं और अल्लाह बुज़ुर्ग्तर है, नहीं कोई ताक़त व कुव्वत मगर वोह जो ख़ुदाए बुज़ुर्ग व बरतर से है, पाक है खुदा औक़ात शब् और एतराफ़ रोज़ में, पाक है खुदा तुलू'अ व गूरूब के वक़्त, पाक है खुदा सुबह और शाम के वक़्त, पाक है खुदा जब तुम शाम करते हो और जब तुम सुबह करते हो, और हमद इसी के लिए है आसमानों और ज़मीन में और बी'वक़्त असर जब तुम जोहर करते हो, वोह मुर्दा से ज़िन्दा को निकालता है और ज़िन्दा से मुर्दा को निकालता है और ज़मीन को इसकी मौत के बाद ज़िन्दा करता है और ऐसे ही तुम कयामत में निकाले जाओगे, पाक है तुम्हारा रब इन बातों से जो वोह लोग ब्यान किया करते हैं, और सलाम हो तमाम रसूलों पर और हम्द खुदा ही के लिए है, जो आलामीन का परवरदिगार है, पाक है वोह जो साहिबे मुल्क-ओ-मलकूत है पाक है वोह जो साहिबे इज़्ज़त-ओ-जबरूत है, पाक है वोह जो बड़ाई और बुज़ूर्गी का मालिक है बादशाह, बर'हक़ मुक़'तादर, और मुन्ज़'ज़ह है, पाक है ख़ुदा जो बादशाह और ज़िन्दा है की जिसे मौत नहीं, पाक है खुदा जो बादशाह ज़िन्दा  और मुन्ज़'ज़ह है, पाक है वोह जो क़ायेम-ओ-दायेंम है, पाक है वोह जो दायेंम-ओ-क़ायेम है, पाक है मेरा रब जो अज़मत वाला है, पाक है मेरा रब जो आला है पाक है वोह जो हमेशा ज़िन्दा-ओ-पाइन्दा है, पाक है वोह जो बुलंद-ओ-बाला है वोह पाक और बरतर है पाकीज़ा व मुन्ज़'ज़ह है हमारा रब जो मलाइका और रूह का रब है पाक है वोह हमेशा रहम=ने वाला जो गाफ़िल नहीं, पाक है वो जो बगैर तालीम के आलिम है पाक है वो जो देखि अनदेखी हर चीज़ का खालिक़ है पाक है वोह जो नज़रों को पाता है और नज़रें इसे पा नहीं सकतीं और वो बारीक'बीन और खबर वाला है ऐ माबूद  तेरी तरफ से मिलने वाली नेमत ख़ैर-ओ-बरकत व आफ़ियत में सुबह की, बस रहमत फरमा मोहम्मद और आले मोहम्मद पर और मुझ पर अपनी नेमत अपनी ख़ैर अपनी बरकतें और अपनी आफ़ियत पूरी फरमा, जहन्नुम से निजात के ज़रिये और मुझे अपने शुक्र की तौफीक भी दे और अपनी तरफ से आफ़ियत अता फरमा और मेहरबानी से नवाज़, जब तक मैं ज़िन्दा हूँ, ऐ माबूद! मुझे तेरे नूर से हिदायत और तेरे फज़ल से तावान्गिरी मिली है तेरे नेमत के साथ मैंने सुबह की और शाम की है, ऐ माबूद! मै तुझे गवाह बनाता हूँ और तेरी गवाही काफी है और गवाह बनाता हूँ तेरे मलाइका अम्बिया रुसूलों और तेरे अर्श के हामेलीन तेरे आसमानों और तेरी ज़मीन के रहने वालों और तेरी मखलूक को इस बात पर की यकीनन तू ही अल्लाह है, तेरे सिवा कोई माबूद नहीं, तू यकता है तेरा कोई सानी नहीं और इस पर की हज़रत मोहम्मद (स:अव:व) तेरे बन्दे और तेरे रसूल हैं और बेशक तू हर चीज़ पर कादिर है तू ही जिन्दा करता है और मौत देता है और मौत देता है और ज़िन्दा करता है मैं गवाही देता हूँ की जन्नत हक़ है जहन्नुम हक़ है क़ब्रों से जी उठना हक़ है, कयामत आने वाली है और इसमें कोई शक नहीं और ख़ुदा इसे ज़िंदा करेगा जो क़ब्र में हैं और मैं गवाही देता हूँ की ईमाम अली (अ:स) इब्ने अबी तालिब मोमेनीन के बार'हक़ अमीर हैं और यह की इनकी औलाद में से जो अ'इम्मह हैं वोही हिदायत याफ़ता हिदायत देने वाले हैं, वोह न गुमराह हैं और न गुमराह करने वाले हैं और यह की वोही तेरे चुने हुए औलिया और तेरी ग़लिब जमा'अत हैं, वोह तेरी मख्लूक़ में से बर'गुज़ीदाह और बेहतरीन अफ़राद हैं और वोह ऐसे शरीफ हैं जिनको तूने अपने दीं की खातिर चुना और इन्हें अपने मख्लूक़ में ख़ास मर्तबा दिया तूने इन्हें अपने बन्दों में से मुन्तखब किया और इनको आलमीन के लिए अपनी हुज्जत क़रार दिया, इनपर तेरा दरूद-ओ-सलाम हो और इनपर खुदा की रहमत और बरकात हों, ऐ माबूद! मेरी यह गवाही अपने यहाँ दर्ज फ़रमा ले ताकि कयामत के दिन इअकि तलक़ीन करे और तू मुझ से राज़ी हो जाए, बेशक तू हर इस चीज़ पर जो तू चाहे कादिर है, ऐ माबूद! तेरे लिए हम्द है जिसका पहला हिस्सा बुलंद होता है और आखरी खत्म होने वाला नहीं, ऐ माबूद! हम्द तेरे ही लिए है, ऐसी हम्द की आसमान तेरे आगे अपने शाने झुका दे और ज़मीन और जो इसपर है वोह तेरी तस्बीह करे, ऐ माबूद! तेरे लिए हम्द है ऐसी हम्द जो हमेशा हमेशा जारी रहे जो न रूकती है न ख़तम होतो है वोह तेरे ही लायक़ है और तुझी तक पहुँचती है वोह मेरे दिल में ज़बान पर मेरे सामने मुझ से पहले मेरे बाद मेरे पहलू में मेरे ऊपर और मेरे नीचे है, जब मैं मरुँ और कब्र में तनहा हो जाऊं फिर ख़ाक दर ख़ाक हो जाऊं और तेरे लिए हम्द है जब क़ब्र में उठ बैठूँ और खड़ा किया जाऊं, ऐ मौला, ऐ माबूद! हम्द और शुक्र तेरे ही लिए है तेरे तमाम व मुकम्मल  के साथ तेरे सभी नेमतों पर हत्ता की हम्द वहाँ पहुंचे जहां तू चाहता है, ऐ हमारे रब जिस में तेरी रजा है, ऐ माबूद! तेरे लिए हम्द है तमाम अशिया-अ ख़ुर्द-ओ-नोश पर, ज़ोर-ओ-ताक़त और पकड़ने व खोलने और जिस्म के हर बाल बाल पर, तेरी हम्द है, ऐ माबूद! तेरे लिए हम्द है हमेशा की हम्द तेरे दवाम के साथ तेरे लिए हम्द है ऐसी हम्द जिसकी तेरे ईल्म के अलावा कहीं इन्तेहा नहीं तेरे लिए हम्द है जिसकी मुददत तेरी मशीयत से सिवा नहीं है तेरे लिए हम्द है की हम्द करने वाले का अजर तेरी रज़ा के अलावा नहीं तेरे लिए हम्द है जो जानते हुए भी नरमी करता है तेरे लिए हम्द है  की क़ुव्वत के बा'वजूद दर'गुज़र फरमाता है तेरे लिए हम्द है तो वजहे हम्द है तेरे लिए हम्द है की तो मालिके हम्द है  तेरे लिए हम्द है की तुझे से इब्तेदाए हम्द है, और तेरे लिए हम्द है की तुझ से इन्हेआए हम्द है तेरे लिए हम्द है की तू हम्द का आग़ाज़ करने वाला है, तेरे लिए हम्द है की तू खरीदार-ए-हम्द हैतेरे लिए हम्द है की तू निगहबान-ए-हम्द हैतेरे लिए हम्द है की तू क़दीमि हम्द वाला है, और तेरे लिए हम्द है की तू वादे में सच्चा अहद पक्का है तवाना लश्कर ला'पायेदार बुज़ूर्गी वाला, और तेरे लिए हम्द है की तू ऊंचे दरजों वाला है, दुआएँ कबूल करने वाला है सातों आसमान से बुल्न्द्तर मुक़ाम से आयात नाजिल करने वाला है, बड़ी बरकतों वाला है नूर को तारीकियों से निकालने वाला तारीकियों में पड़े को रौशनी में लाने वाला गुन्हाओं को नेकियों में बदलने वाला, नेकियों को बुलंद मरातिब में बदलने वाला है, ऐ माबूद! तेरे लिए हम्द है की तू गुनाह माफ़ करने वाला तौबा कबूल करने वाला सख्त अज़ाब देने वाला और अता करने वाला है, तेरे सिवा कोई माबूद नहीं बाज़'गुज़श्त तेरी ही तरफ है, ऐ माबूद! तेरे लिए हम्द है रात में जब वोह छा जाएतेरे लिए हम्द है दिन में जब वोह रौशन  हो जाएतेरे लिए हम्द है दुन्या व आख़ेरत मेंतेरे लिए हम्द है आसमान के सितारों और फ़रिशतों की तादाद के बराबरतेरे लिए हम्द है ख़ाक और रेत के ज़ररों और फलों की गुठलियों की तादाद के बराबरतेरे लिए हम्द है फ़ज़ा आसमान में मौजूद चीज़ों की तादाद के बराबरतेरे लिए हम्द है तहे ज़मीन में मौजूद चीज़ों की तादाद के बराबरतेरे लिए हम्द है समुन्दरों के पानी के वज़न के बराबर, तेरे लिए हम्द है दरख्तों की पत्तियों की तादाद के बराबर, तेरे लिए हम्द हैज़मीन पर मौजूद चीज़ों की तादाद के बराबर, तेरे लिए हम्द है तेरी किताब में मौजूद तादाद के बराबर, तेरे लिए हम्द है तेरे ईल्म में मौजूद तादाद के बराबर, तेरे लिए हम्द है इंसानों, जिन्नों, हशरात परिन्दों, चरिन्दों, और दरिन्दों की तादाद के बराबर, बहुत ज़्यादा पाक और बा'बरकत हम्द, ऐ परवर्दिगार तुझे पसंद और जिस पर तू राज़ी हो और जैसी हम्द तेरी शान करम और तेरी जलालत के लायेक़ है!

 

फिर 10 मर्तबा कहें : 

अल्लाह की सिवा कोई माबूद नहीं, जो यकता है जिसका कोई सानी नहीं इसके लिए मुल्क है ईसी के लिए हम्द है और वोह बारीक'बीन ख़बरदार है

फिर 10 मर्तबा कहें :       

अल्लाह के सिवा कोई माबूद नहीं जो यकता है जिसका कोई सानी नहीं इसके लिए मुल्क है और इसीके लिए हम्द है जो ज़िन्दा करता है और मारता है, मारता है और ज़िन्दा करता है और ज़िन्दा है जिसे मौत नहीं इसीके हाथ में ख़ैर है और वोह हर चीज़ पर कादिर है मैं अल्लाह से बख्शीश चाहता हूँ जिसके सिवा कोई माबूद नहीं वोह ज़िन्दा-ओ-पाइन्दा है और ईसी के हुज़ूर तौबा करता हूँ 

फिर 10 मर्तबा कहें :

या अल्लाह या अल्लाह 

ऐ रहमत करने वाले ऐ रहमत करने वाले 

ऐ मेहरबान ऐ मेहरबान 

ऐ आसमानों और ज़मीन को पैदा करने वाले 

फिर 10 मर्तबा कहें : 

ऐ साहिबे जलालत व बुज़ूर्गी वाले ऐ मेहरबानी करने वाले ऐ एहसान करने वाले ऐ ज़िन्दा-ओ-पाइन्दा ऐ ज़िन्दा के तेरे सिवा कोई माबूद नहीं 

फिर 10 मर्तबा कहें : 

ऐ अल्लाह! ऐ वोह ज़ात की तेरे सिवा कोई माबूद नहीं, खुदा के नाम से जो बड़ा मेहरबान निहायत रहम करने वाला है , ऐ माबूद! मोहम्मद और आले मोहम्मद पर रहमत नाजिल फ़रमा 

फिर 10 मर्तबा कहें : 

ऐ माबूद मेरे साथ वोह बर्ताव कर जिसका तू अहल हैऐसा ही हो   

फिर 10 मर्तबा क़ुल हुवल लाहो अहद पढ़ें और फिर कहें  : 

ऐसा ही हो कहो (ऐ नबी) अल्लाह एक है ऐ माबूद मेरे साथ वोह बर्ताव कर जिसका तू अहल है और मुझ से वोह न कर जिसका मैं अहल हूँ, बेशक तू बचाने वाला और बख्शने वाला है और मैं  गुनाह करने वाला और खतायें करने वाला हूँ बस रहम कर मुझ पर ऐ मेरे मौला और तू सबसे ज़यादा रहम करने वाला है 

ऐसा ही हो   

फिर 10 मर्तबा कहें 

कोई ताक़त व कुव्वत नहीं सिवाए इसके जो अल्लाह की तरफ से है, भरोसा रखता हूँ इस ज़िन्दा पर जिसे मौत नहीं और हम्द है इस अल्लाह के लिए जिसने किसी को बेटा नहीं बनाया और न  कोई इसकी हुकूमत में शरीक है और न कोई इसका मददगार है ब'वजह इसके अज्ज़ के, और इसकी बड़ाई ब्यान करते रहा करो
 

वापस होम पेज पर जाएँ