माहे रमज़ान मुबारक में हर रोज़ के अमाल ﴿
10 तसबीहात - रोज़ाना     ١٠ تسبيحات          PDF     MP3

रोज़ाना सलवात      صلوات       PDF    MP3  

अल्लाहुम्मा हाज़ा शहरे रमज़ान   اللّهُمَّ هذَا شَهْرُ رَمَضَان   PDF    MP3
 

अल्लाहुम्मा इननि अद'औका कमा अमर'तनी  اللّهُمّ إنّي أَدْعُوكَ كَمَا أَمَرْتَنِي   PDF
 

अल्लाहुम्मा इननि आस'अलोका मिन फ़ज़लीक    اللّهُمّ إنّي أَسْأَلُكَ مِنْ فَضْلِك     PDF      MP3
 

अल्लाहुम्मा रब्बा शहरे रमज़ान  (नीचे देखिए - 1)  اللّهُمّ رَبّ شَهْرِ رَمَضَان     PDF   MP3
 

या ज़ल-लज़ी काना क़ब्ला कुल्ले शै  (नीचे देखिए  2)   يا ذَا الّذِي كَانَ قَبْلَ كُلّ شَيْءٍ     PDF

 

सुभहान अल'ज़र  (नीचे देखिए 3) سُبْحَانَ الضَّار     PDF 
 

1. अल्लाहुम्मा रब्बा शहरे रमज़ान    اللّهُمّ رَبّ شَهْرِ رَمَضَانَ

  Ppsx  Ppt in Pdf | Image | Mp3 | Video

शुरू करता हूँ अल्लाह के नाम से जो बड़ा मेहरबान और निहायत रहम वाला है 

बिस्मिल्लाह अर'रहमान अर'रहीम 

بِسْمِ اللهِ الرَحْمنِ الرَحیمْ

ऐ अल्लाह! ऐ माहे रमज़ान के परवरदिगार की जिस में तूने क़ुरआने करीम को नाज़िल फ़रमाया और अपने अपने बन्दों पर इस माह में रोज़े रखना फ़र्ज़ किये, मोहम्मद व आले मोहम्मद (अ:स) पर रहमत नाज़िल फ़रमा, और मुझे इस साल बैतूल हरम (काबा) का हज नसीब फ़रमा और आइन्दा सालों में भी और मेरे अब तक के तमाम गुनाहे कबीरा माफ़ कर दे क्योंकि सिवाए तेरे इन्हें कोई माफ़ नहीं कर सकता, ऐ ज़्यादा रहम वाले ऐ ज़्यादा इल्म वाले

अल्लाहुम्मा रब्बा शहर रमज़ान

اللّهُمّ رَبّ شَهْرِ رَمَضَانَ

अल' लज़ी अन-ज़लता फ़िहिल क़ुरआन

الّذِي أَنْزَلْتَ فِيهِ القُرْآنَ،

अफ़-तर्ज़ता अला इबादिका फ़िहिल सैय्याम

وَافْتَرَضْتَ عَلَى عِبَادِكَ فِيهِ الصّيَامَ،

अर-ज़ूक़'नी हज्जा बैतेकल हराम

ارْزُقْنِي حَجّ بَيْتِكَ الحَرَامِ

फ़ी हाज़ल आमे फ़ी कुल्ले आम

فِي هذَا العَامِ وَفِي كُلّ عَامٍ،

अग़ फ़िरली अज़-ज़ूनूबल अज़ाम

وَاغْفِرْ لِيَ الذّنُوبَ العِظَامَ

फ़-इन नहु ला यग़-फ़ीरोहा ग़ै-रूका

فَإنّهُ لا يَغْفِرُهَا غَيْرُكَ

या ज़ूल जलाले वल ईकराम 

يَا ذَا الجَلالِ وَالإكْرَامِ.

2. या ज़ल-लज़ी काना क़ब्ला कुल्ले शै     يَا ذَا الّذِي كَانَ قَبْلَ كُلّ شَيْء

Pdf   Jpg  |  Ppsx Ppt in Pdf

शुरू करता हूँ अल्लाह के नाम से जो बड़ा मेहरबान और निहायत रहम वाला है 

बिस्मिल्लाह अर'रहमान अर'रहीम 

بِسْمِ اللهِ الرَحْمنِ الرَحیمْ

ऐ वोह जो हर चीज़ से पहले मौजूद था, फिर हर चीज़ को पैदा किया, तू वो जो बाक़ी रहेगा, और हर चीज़ फ़ना हो जायेगी, ऐ वो जिसकी की मानिंद कोई चीज़ नहीं, ऐ वो न बुलंद आसमानों में है और न पस्त तरीन ज़मीनों में है और न इनके ऊपर और न इनके नीचे है, और न दरम्यान में है, वो माबूद जसके सिवा कोई माबूद नहीं, तेरे लिए हम्द है, वो हम्द की कोई इसे शुमार नहीं कर सके सिवाए तेरे, पस हज़रत मोहम्मद व आले मोहम्मद पर रहमत नाज़िल फ़रमा, वो रहमत की इसे कोई शुमार न कर सके सिवाए तेरे! 

या ज़ा'अल लज़ी काना कब्ला कुल्ले शै'इन 

يَا ذَا الّذِي كَانَ قَبْلَ كُلّ شَيْءٍ،

सुम्मा ख़ल्क़ा कुल्ले शै'इन

ثُمّ خَلَقَ كُلّ شَيْءٍ،

सुम्मा यबक़ा व यफ़ना कुल्ले शै'इन 

ثُمّ يَبْقَى وَيَفْنَى كُلّ شَيْءٍ،

या ज़ा'अल लज़ी लैसा कमिस्लेहि शै'इन 

يَا ذَا الّذِي لَيْسَ كَمِثْلِهِ شَيْءٌ،

या ज़ा'अल लज़ी लैसा फ़ीस'समावाते अल-उला 

وَيَا ذَا الّذِي لَيْسَ فِي السّمَاوَاتِ العُلَى،

व ला फ़ी'अल अरज़ी'नस सफ़्ला 

وَلا فِي الأَرَضِينَ السّفْلَى،

व ला फौ'क़ा हुन्'ना व ला तह'तहुन्ना व ला बैना हुन्ना इलाहुँ यो-बदो ग़ै-रोहु

وَلا فَوْقَهُنّ وَلا تَحْتَهُنّ وَلا بَيْنَهُنّ إلهٌ يُعْبَدُ غَيْرُهُ،

लका अल'हम्दो हमदन ला यक़्वा अला एह्सा'एही ईल्ला अन्ता 

لَكَ الحَمْدُ حَمْداً لا يَقْوَى عَلَى إحْصَائِهِ إلاَّ أَنْتَ،

फ़-सल्ले अला मोहम्मदीन व आले मोहम्मदीन सलातन ला यक़्वा अला एहसाएहा इल्ला अन्ता 

فَصَلّ عَلَى مُحَمّدٍ وَآلِ مُحَمّدٍ صَلاةً لا يَقْوَى عَلَى إحْصَائِهَا إلاَّ أَنْتَ.

रोज़ाना 100 मर्तबा 

शुरू करता हूँ अल्लाह के नाम से जो बड़ा मेहरबान और निहायत रहम वाला है 

बिस्मिल्लाह अर'रहमान अर'रहीम 

بِسْمِ اللهِ الرَحْمنِ الرَحیمْ
 

सुब्हाना अज़ ज़ारा नाफ़े 

سُبْحَانَ الضَّارّ النَّافِعِ،

 

सुब्हाना अल क़ाज़ी'इ बिल-हक़ 

سُبْحَانَ القَاضِي بِالحَقّ،

 

सुब्हाना अली'उल आ'अला 

سُبْحَانَ العَلِيّ الأَعْلَى،

 

सुब्हानहु व बे'हम्देही    

سُبْحَانَهُ وَبِحَمْدِهِ،

  सुब्हानहु व त'आला 

سُبْحَانَهُ وَتَعَالَى.

नमाज़ के बाद की ताकीबात (दुआ) 

ताकीबात मुश्तरका

दुआ-नमाज़ फ़ज्र के बाद

दुआ-नमाज़ ज़ोहर के बाद

दुआ-नमाज़ असर के बाद

दुआ-नमाज़ मग़रिब के बाद

दुआ-नमाज़ ईशा के बाद

रोज़ाना की दुआ व ज़यारत 

जुमा

सनीचर 

ईतवार सोमवार मंगल बुध जुमेरात

मुहर्रम 

सफ़र 

रबी'उल अव्वल  रजब 

शाबान 

रमज़ान  ज़िल्काद  ज़िल्हज्ज 
क़ुरान करीम  क़ुरानी दुआएँ  दुआएँ  ज्यारतें 
अहलेबैत (अ:स) कौन हैं? सहीफ़ा-ए-मासूमीन (अ:स) नमाज़ मासूमीन (अ:स) और दूसरी अहम् नमाज़ें  हज़रत ईमाम मेहदी (अ:त:फ़)
ईस्लामी क़ानून और फ़िक्ह  लाईब्रेरी  उल्मा-ए-दीन  इस्लामी महीने और ख़ास तारीख़ें

कृपया अपना सुझाव  भेजें

ये साईट कॉपी राईट नहीं है !