एक लाइन की दुआ पाने के लिए Follow us on Twitter

दुआए मशलूल            دعاء المشلول

सैय्यद इब्ने तावूस ने अपनी किताब मह्जूले-दावत में हज़रत इमाम हुसैन (अ:स) से रिवायत की है के आप फरमाते हैं की एक शब् मै अपने पदरे बुज़ुर्गवार आली मश्दार हज़रत अली इब्ने अबी तालिब (अ:स) के हमराह तावाफे खाने काबा में था और वोह शब् बहुत तारीक थी और कोई मशगूले तवाफ़ न था, ज़्यादा लोग महवे ख़्वाब थे, नागाह मैंने एक आवाज़ सूनी के कोई शख्स ब आवाज़े दर्द यह शेर पढ़ रहा है :

अम्मय-युजीबो दुआ-ए-मुज़्तारे फ़ील ज़ुलमे 

क़द्नामा वफ्दोका हौलत बीते व अन्ता बेहुम

ईन काना अफ्वोका ला यूर'जूहो ज़ुसराफे

फामय यजूदो अलल आसेना बिल नेमते

जनाबे अमीर (अ:स) ने इमाम हुसैन  (अ:स) को उकसे पास भेजा, जब वो शख्स आया, हज़रत ने नाम दरयाफ्त फरमाया, उसने अर्ज़ किया की मेरा नाम मनाज़िल इब्ने लाहक़ है और मै पहले अपनी शामाते नफ़स, गुनाह बहुत ज़्यादा करता था, मेरा बाप मुझ को नसीहत करता और मज़्हबे खुदा से डराया करता था और मै उसको मारा करता था, एक रोज़ उसने सब रुपया मुझ से छुपा कर रखा, मै उन रुपयों को वाहियात खर्च करने चला, उसने मुझे को रोका और चाहा के रुपया मुझे से चीन ले, मैंने उसके हाथ मोड़ दिया और अपने को उसके गिरफ़्त से छुड़ा लिया, वोह मायूस हो कर ख़ाने काबा में आया और अपने हाथों को बुलंद करके ख़ुदा से मेरी शिकायत की और बद-दुआ की के मेरा एक तरफ का बदन शल हो जाए,! क़सम है उस ख़ुदा की उसकी दुआ (बद-दुआ) तमाम न हुई थी की मेरा एक पहलू (हिस्सा-ए-बदन) रह गया! जिस तरफ आप देख रहे हैं!  इसके बाद मेरा बाप वतन चला गया! जब यह हाल हुआ तो मैंने अपने बाप से कमाले उर्रोजे-ख्वाही की, मेरे बाप ने मुहब्बत-ए-पेदरी से क़बूल किया, मै अपने बाप को दुआए-ख़ैर के लिए ऊँट पर सवार कर के उम्मीदे शिफ़ा में ला रहा था, के नागाह राह में एक मुर्गे ने परवाज़ की और ऊँट भड़का ,मेरा बाप ऊँट से ग़िर कर हालाक हो गया, अब लोग ताने तिशना करते हैं और कहते हैं की बाप के आख़ करने से बलाए-ना'गहानी में गिरफ्तार है, पस जनाबे अमीर (अ:स) ने इस दुआ को इसलिए उसके लिए तजवीज़ फरमाया और इरशाद फरमाया की किसी शब् इस दुआ को बा-वजू पढ़, इंशाल्लाह यह बला तुझ से दफा हो जायेगी और अल्लाह तेरी तौबा क़बूल करेगा! जब सुबह हुई तो वोह शख्स हज़रत अली (अ:स) की ख़िदमत में इस तरह हाज़िर हुआ की बिलकुल तंदुरुस्त और हाथ में हज़रत ली लिखी हुई दुआ और कहता जाता था या हज़रत (अ:स) बा-खुदा यह  इस्मे आज़म है, उसने शबे गुज़िश्ता जब लोग सो गए और मंजिल अहराम में लोगों की आमदो-रफत कम हुई तो मैंने अपने हाथों को आसमान की तरफ उठा कर कई मर्तबा इस दुआ को पढ़ा और फिर सो गया,इतने में आलामे रोया में रिसालत मोआब (स:अ:व:व) को देखा के वोह जनाब  (स:अ:व:व) अपने दस्ते मोबारक से मेरे  बदन को मलते हैं और फरमाते हैं के मुहाफिज़त कर इस नाम की (इसमें आज़म)! नागाह मैं बेदार हुआ तो देखा के तमाम अवारिज़ दफा हो गए! खुदा तुम को जज़ाये ख़ैर दे ! हज़रत इमाम हुसैन (अस:) ने फरमाया के इस दुआ में इस्मे आज़म है, इसका पढ़ना बाइसे बरकत है! रंज-ओ-ग़म दूर होता है, क़र्ज़ अदा होता है, गुनाह ख़तम हो जात है, अय्युद फना हो जाते हैं, शररे शैतान और ज़ुलमे शैतान से महफूज़ रहेगा, और हज़रत ने फरमाया की यह दुआ ब-तहारत पढी जाए, ब-ग़ैर तहारत न पढी जाए!

इस दुआ के फायेदे : इस दुआ को इशा की नमाज़ के बाद पढना चाहिए ! इस दुआ को बा-वजू और तहारत के साथ पढ़ा जाए, इससे आप की सभी वैध प्रार्थना पुरी होगी! यह बीमारी और ग़रीबी दूर करती है,गुनाह माफ़ किये जाते हैं,लकवा की बीमारी में बहुत लाभदायक है,क़र्ज़ दूर होते है,दुश्मन दोस्त बनते हैं, पारिवारिक समस्याएँ दूर होती हैं, विवाद आप के पक्ष में हल होते हैं, क़ैद से रिहाई मिलती है, दिमागी परेशानी दूर होती है, समृद्धि एवं सौभाग्य की प्राप्ति होती है और सफलता मिलती है, ताज़ा और स्वस्थ्य दिमाग और शारीर हमेशा आप के साथ रहता है! अगर इस दुआ को हमेशा पढ़ा जाए तो गुनाहों की माफ़ी और अल्लाह की कृपा बनी रहती है!     

इस दुआ की पृष्ठभूमि और फायेदनय   Line by line 3 column format

ऑनलाइन सुनें  |  डाउनलोड करें अरबी ट्रांसलिटरेशन  MP3 Pdf Ppt file

बिस्मिल्ला हिर रहमानिर रहीम

ऐ अल्लाह मैं तुझ से सवाल करता हूँ तेरे नाम के वास्ते से, अल्लाह के नाम से शुरू करता हूँ, जो रहमान और रहीम है, ऐ साहब, फायेदा देने वाले, ऐ तदबीर वाले, औ मोहकम कार वाले, ऐ मेहरबान, ऐ हिक्मर वाले, ऐ वजूद क़दीम, ऐ आलिशान, ऐ बुज़ुर्गिवाले, ऐ मुहब्बत करने वाले, ऐ एहसान करने वाले, ऐ हिसाब करने वाले, ऐ जुज़ इज्लालत व बुज़ुर्गी, ऐ ज़िंदा, ऐ निगहबान, ऐ जिंदा, सिवाए तेरे कोई माबूद नहीं, ऐ वो के जिसे कोई नहीं जानता के वो क्या है, और कैसा सूरत बनाने वाले, ऐ है, वो कहाँ है, वो क्योंकर है, हाँ वो खुद ही जानता है, ऐ साहबे मुल्क व मलकूत, ऐ साहबे इज्ज़त व इक्तादार, ऐ बादशाह, वजूद देने वाले, ऐ ऐ पाक, ऐ सलामती वाले, ऐ अमन देने वाले, ऐ पासबान, ऐ इज्ज़त वाले, ऐ ज़बरदस्त, ऐ बड़ाई वाले, ऐ पैदा करने वाले,    ऐ ऐ साहबे इजाद,  ऐ मुर्जाए ख़ल्क़, औ ज़ुल्म को ख़तम करने वाले, औ मुहब्बत वाले, ऐ नेक सिफात वाले, ऐ माबूद सुन्ने वाले, ऐ इल्म वाले, ऐ हिलम, ऐ ब'ईद, ऐ क़रीब, ऐ दुआ क़बूल करने वाले, ऐ निगहबान, ऐ हिसाब करने वाले, ऐ इजाद करने वाले, ऐ बुलंद मुर्ताबा, ऐ आली मुकाम, ऐ देने वाले, ऐ मदद करने वाले, ऐ जलालत वाले, ऐ साहबे जमाल, ऐ कारसाज़, ऐ सर्प्रसत, ऐ माफ़ करने वाले, ऐ पहचानने वाले, ऐ बा-अज़मत, ऐ रहनुमा, ऐ रहबर, ऐ इब्तदा करने वाले, ऐ अव्वल, ऐ आखिर, ऐ ज़ाहिर, ऐ बातिन, ऐ इस्तावार, ऐ हमेशा रहने वाले, ऐ इल्म वाले, ऐ साहबे हुक्म, ऐ मुंसिफ, ऐ अदल करने वाले, ऐ सब से जुदा, ऐ सब से मिले हुए, ऐ पाक, ऐ पाक करने वाले, ऐ कुदरत वाले, ऐ इक्तादार वाले, ऐ बुज़ुर्ग, ऐ बुज़ुर्गी वाले, ऐ यगाना, ऐ यकता, ऐ बे-नेयाज़, ऐ वो जो किसी का बाप नहीं और न किसी का बेटा है और जिसका कोई हंसर नहीं है और न ही इस की कोई बीवी है न इस के लिए कोई वजीर है और न इस ने अपना कोई मुशीर बनाया है न वो किसी मददगार की हाजत रखता है और न  इस के साथ कोई माबूद है, सिवाए तेरे कोई माबूद नहीं, पस तू इस से बहुत ज़्यादा बुलंद है जो यह ज़ालिम कहा करते हैं, ऐ आलिशान, ऐ बलंद मर्तबा वाले, ऐ आली मत्रबा ऐ खोलने वाले, ऐ बख्शने वाले ऐ हवा को चलाने वाले ऐ राहत देने वाले ऐ मदद करने वाले ऐ मदद देने वाले ऐ पहुँचने वाले, ऐ हलाक करने वाले, ऐ बदला लेने वाले, ऐ उठाने वाले, ऐ वारिस, ऐ तालिब, ऐ ग़ालिब, ऐ वो जिस से भागने वाला भाग नहीं सकता ऐ तौबा क़बूल करने वाले ऐ पलटने वाले, ऐ बहुत देने वाले ऐ असबाब मुहैय्या करने वाले ऐ दरवाजों को खोलने वाले, ऐ वो के जिसे पुकारा जाए तो वो दुआ क़बूल करता है, ऐ  बहुत पाकीज़ा, ऐ  बहुत शुक्र करने वाले ऐ माफ़ करने वाले, ऐ बख्शने वाले ऐ नूर पैदा करने वाले ऐ अमूर की तदबीर करने वाले ऐ मेहरबान, ऐ खबरदार ऐ पनाह देने वाले ऐ रौशन करने वाले, ऐ बीना ऐ मददगार, ऐ सब से बड़े, ऐ सब से बुज़ुर्ग, ऐ यकताये तनहा, ऐ हमेशगी वाले ऐ निगहबान, ऐ बेनेयाज़, ऐ काफी, ऐ शिफ़ा देने वाले ऐ वफ़ा करने, ऐ माफ़ करने और ऐ एहसान करने वाले, ऐ नेकोकार ऐ नेमत देने वाले ऐ बुज़ुर्गवार ऐ बड़े मर्तबे वाले ऐ यागांगी वाले ऐ वो जो बुलंदी के साथ ग़ालिब है ऐ वो जो मालिक है फिर कादिर है, ऐ वो जो नहाँ है और बा-खबर है ऐ वोह जो माबूद है तो बदला देता है ऐ जो नाफ़रमानी  पर  बख्शता है ऐ वो जो फ़िक्र में समा नहीं सकता और निगाह इसे देख नहीं पाती और कोई निशान इस से पोशीदा नहीं है, ऐ इंसानों को रिज्क़ देने वाले, ऐ हर अंदाजः के मुक़र्रर करने वाले, ऐ बुलंद मर्तबा, ऐ मुहकम वसाएल वाले ऐ ज़माने को बदलने वाले ऐ क़ुर्बानी क़बूल करने वाले, ऐ साहबे नेमत व एहसान ऐ साहेबे इज़'ज़त और अहदी हुकूमत वाले ऐ रहीम ऐ रहमान ऐ वो के हर रोज़ जिस की नयी शान है ऐ वो जिसे एक काम दुसरे काम से ग़ाफिल नहीं करता ऐ बड़े मुक़ाम वाले ऐ वो जो हर जगह मौजूद है ऐ आवाजों के सुन्ने वाले ऐ दुआएं क़बूल करने वाले ऐ मुरादें बर लाने वाले ऐ हाजात पूरी करने वाले, ऐ बरकतें नाज़िल करने वाले ऐ आंसूओं पर रहम ख़ाने वाले ऐ गुनाहों के माफ़ करने वाले ऐ सख्तियाँ दूर करने वाले ऐ नेकियों को पसंद करने वाले ऐ मर्तबे बुलंद करने वाले ऐ मुरादें पूरी करने वाले ऐ मुर्दों को ज़िंदा करने वाले ऐ बिखरों को इकठा करने वाले ऐ नीयतों की खबर रखने वाले ऐ खोई हुई चीज़ें लौटाने वाले ऐ वो जिस पर आवाजें मुश्तभा नहीं होतीं ऐ वो जिस को शर्ते सवाल से तंगी नहीं होती और तारीकियाँ इसे घेरती नहीं हैं ऐ आसमानों और ज़मीन की रौशनी, ऐ नेमतों को पूरा करने वाले ऐ बलाएँ टालने वाले ऐ जानदारों को पैदा करने वाले ऐ उम्मतों को जमा करने वाले ऐ बीमारों को शफ़ा देने वाले ऐ रौशनी और तारीकी के पैदा करने वाले ऐ साहेबे जूडो करम ऐ वो जिस के अर्श पर किसी का क़दम नहीं आया, ऐ सख़यों में सब से बड़े सखि, ऐ बुज़ुर्गी वाले से ज्यादा बुज़ुर्ग, ऐ सुन्ने वालों में से ज़्यादा सुन्ने वाले ऐ देखने वालों में से ज़्यादा देखने वाले ऐ पनाहगजीनों की पनाहगाह ऐ डरे हुओं की जाए अमन ऐ पनाह चाहने वालों की जाए पनाह ऐ मोमिनों के सरपरस्त ऐ फरयादियों के फर्याद'रस ऐ तलबगारों की उम्मीद ऐ हर सफ़र करने वाले के साथी ऐ हर अकेले के हमनशीं ऐ हर निकाले गए की जाये पनाह, ऐ बे ठिकानों की क़रारगाह, ऐ गुन्शुदा के निगहबान, ऐ बड़े बूढों पर रहम करने वाले ऐ नन्हे बच्चे को रोज़ी देने वाले ऐ टूटी हड्डी को जोड़ने वाले ऐ हर कैदी को रिहाई देने वाले ऐ बेचारे मुफलिस को गनी बनाने वाले ऐ खाएफ पनाह गुज़ीन की जाये क़रार, ऐ तदबीर और तकदीर के मालिक

ऐ वो जिस के लिए हर मुश्किल और आसान काम हल्का है ऐ वो जो तफसीर का मुहताज नहीं ऐ वो जो हर चीज़ पर कुदरत रखता है, ऐ वो जो हर चीज़ से वाकिफ है, ऐ वो जो हर चीज़ को देखता है, ऐ हवाओं को चलाने वाले ऐ सुबह की पौ खोलने वाले ऐ रूहों को भेजने वाले ऐ अता व सखावत वाले ऐ वो जिस के हाथ में सारी कुंजियाँ हैं, ऐ हर आवाज़ को सुन्ने वाले ऐ हर गुज़रे हुए से पहले ऐ हर नफ़स को इस की मौत के बाद ज़िंदा करने वाले ऐ सख्तियों में मेरी पनाह ऐ सफ़र में मेरे मुहाफ़िज़, ऐ मेरी तन्हाई के हमदम ऐ मेरी नेमतों के मालिक ऐ मेरी पनाह जब मुझ पर राहें बंद हो जाएँ और रिश्तादार मुझे दूर कर दें और अहबाब मुझे छोड़ जाएँ, ऐ इसके सहारे जिसका कोई सहारा नहीं, ऐ इसकी सनद जिसकी कोई सनद नहीं, ऐ इसके ज़खीरे जिस का कोई ज़खीरा नहीं, ऐ इसकी पनाह जिसका कोई पनाह नहीं ऐ इसकी अमान जिस की कोई अमान नहीं, ऐ उसके ख़ज़ाने जिसका कोई खज़ाना नहीं ऐ उसके पुष्ट'पनाह जिसका कोई पुश्त्पनाह नहीं, ऐ उसकी फरयाद जिस का कोई फर्यादरस नहीं ऐ उसके हमसाये जिसका कोई हमसाया नहीं जो नज़दीक तर है, ऐ मेरा मज़बूत तरीन सहारा ऐ मेरे हकीकी माबूद ऐ ख़ाने काबा के परवरदिगार, ऐ मेहरबान ऐ दोस्त मुझे तंग घेरे से आज़ाद कर, मुझे से हर ग़म व अंदेशा और तंगी दूर फरमा दे, मुझे इस शर से बचा जो मेरी ताक़त से ज़्यादा है और इस में मदद दे जो मै सह सकता हूँ ऐ वो जिस ने याक़ूब (अ:स) को युसूफ (अ:स) वापस दिलाया, ए अय्यूब (अ:स) का दुःख दूर करने वाले ऐ दावूद (अ:स) की खता माफ़ करने वाले, ऐ ईसा (अ:स) इब्ने मरयम (स:अ) को आसमान पर उठाने वाले और इन्हें यहूदियों के चंगुल से छुड़ाने वाले ऐ तारीकियों में युनुस (अ:स) की फरयाद को पहुंचने वाले, ऐ मूसा (अ:स) को अपने कलाम के लिए मुन्तखिब करने वाले, ऐ आदम (अ:स) के तरके-ऊला को माफ़ करने वाले और इदरीस (अ:स) को अपनी रहमत से बलंद मक़ाम पर ले जाने वाले, ऐ नूह (अ:स) को डूबने से बचाने वाले ऐ वो जिस ने आड़ और ऊला और समूद को हलाक किया, पस किसी को न बाक़ी छोड़ा और इनसे पहले कौमे-नूह (अ:स) को हलाक किया जो बड़े ज़ालिम, सरकश और दीन में फसाद करने वाले थे ऐ वो जिस ने कौमे-लूत (अ:स) की बस्तियों को उलट दिया और कौमे-शु'ऐब (अ:स) पर अज़ाब भेजा था, ऐ वोह जिस ने इब्राहीम (अ:स) को अपना खलील बनाया, अ वो जिस ने मूसा (अ:स) को अपना कालीन बनाया और मुहम्मद     को अपना हबीब क़रार दिया के खुदा की रहमत हो ईन पर ईन की आल (अ:स) पर और ईन सब हस्तियों पर जिनका ज़िक्र हुआ है, औ लुक़मान (अ:स) को हिकमत अता करने वाले, औ सुलेमान (अ:स) को ऐसी सलतनत देने वाले जैसी सल्तनत उनके बाद किसी को नहीं मिली, ऐ वो जिस ने जाबिर बादशाहों के खलाफ ज़ुल'क़रनैन (अ:स) की मदद फरमाई, ऐ वो जिस ने खिज़र (अ:स) को दायेमी ज़िन्दगी दी, और युशु'अ (अ:स) बिन नून की ख़ातिर आफताब को पलटाया जब के वो ग़ुरूब हो चुका था, ऐ वो जिस ने मादरे मूसा (अ:स) के दिल को सुकून दिया और मरयम (स:अ) बिन्ते इमरान (अ:स) को पाक दामनी से सरफ़राज़ फरमाया, ऐ वो जिस ने यहया (अ:स) बिन ज़करिया (अ:स) को गुनाह से महफूज़ रखा और मूसा (अ:स) से ग़ज़ब को दूर फरमाया ऐ वो जिस ने ज़करिया (अ:स) को यहया (अ:स) की बशारत दी ऐ वो जिस ईन इस्माइल (अ:स) के ज़िबह होने को ज़िब'हे अज़ीम में बदला, ऐ वो जिस ने हाबील (अ:स) की कुर्बानी क़बूल फरमाई, और काबील पर लानत मुसल्लत कर दी, ऐ हज़रत मुहम्मद  की ख़ातिर कुफ्फर के जतथों को शिकस्त देने वाले मुहम्मद  और आले मुहम्मद (स:अ) पर रहमत नाज़िल कर, अपने तमाम रसूलों (स:अ:व:व) पर और अपने मुक़र्रिब फरिश्तों पर और फरमाबरदार बन्दों पर रहमत नाज़िल फ़रमा और मै सवाल करता हूँ तुझ से, हर इस सवाल के वास्ते से जो तेरे हर इस बन्दे ने किया जिस से तू राज़ी व खुश है फिर तुने इसकी दुआ यक़ीनन क़बूल फरमाई, या अल्लाह, या अल्लाह या अल्लाह या रहमान या रहमान या रहमान या रहीम या रहीम या रहीम ऐ जलालत व बुज़ुर्गी वाले, ऐ जलालत व बुज़ुर्गी वाले ऐ जलालत व बुज़ुर्गी वाले इसी का वास्ता  इसी का इसी का इसी का इसी का इसी का इसी का मै सवाल करता हूँ तेरे हर इस नाम के वास्ते से जिस से तुने अपनी ज़ात को पुकारवाया अपने सहीफों में से किसी में उतारा या इसे इल्मे ग़ैब में अपने लिए मुक़र्रर व ख़ास किया है ईन मक़ामात बुलंद का वास्ता जो तेरे अर्श में हैं, इस इन्तहाई रहमत का वास्ता जो तेरी किताब में है और इस आयत का वास्ता के अगर ज़मीन के तमाम दरख़्त क़लम और समंदर  रोशनाई बन जाएँ इसके बाद सात समंदर और हों तो भी खुदा के कलमात तमाम नहीं होंगे, बेशक अल्लाह ग़ालिब है हिकमत वाला और मैं सवाल करता हूँ तेरे प्यारे नामों के साथ जिनकी तुने कुरान में तौसीफ की पस तुने कहा अल्लाह के लिए हैं प्यारे प्यारे नाम तो तुम इसे इन्ही से पुकारो मैं तुम्हारी दुआ क़बूल करूंगा और तुने कहा के जब मेरे बन्दे मुझे पुकारें तो मैं ईन के क़रीब ही होता हूँ, मैं दुआ करने वाले की दुआ क़बूल करता हूँ जब वो दुआ करे और तुने कहा ऐ मरे वो बन्दों जिन्होंने अपने ऊपर ज़ुल्म किया है के अल्लाह की रहमत से ना-उम्मीद न हो जाना के बेशक अल्लाह तमाम गुनाह बख्श देगा यक़ीनन वो बहुत बख्शने वाला मेहरबान है और मैं सवाल करता हूँ तुझ से ऐ माबूद तुझे पुकारता हूँ ऐ परवरदिगार और तुझ से उम्मीद रखता हूँ ऐ मेरे आक़ा मै दुआ के क़बूल होने की तमा-अ रखता हूँ ऐ मेरे मौला जैसे तुने वादा किया और मैंने तुझे पुकारा जैसा के तुने मुझे हुकुम दिया पस ऐ करीम ज़ात तू भी मुझ से वो सुलूक कर जिसका तू अहल है और तारीफ़ बस खुदा के लिए है जो आलामिन का रब है और मुहम्मद  और तमाम आले-मुहम्मद (अ:स) पर अल्लाह रहमत फरमाए!

 

अल्लाहुम्मा सल्ले अला मुहम्मद   व आले मुहम्मद  (अ:स)


 

ِسمِ اللهِ الرَّحمنِ الرَّحيمِ

अरबी ट्रांसलिटरेशन

अल्लाहूम्मा सल्ले अला मोहम्मदीन  आले मोहम्मद.

बिस्मिल्ला हिर रहमानीर रहीम

अल्ला-हूम्मा इन्नी अस'अलोका, बे-ल्स्मेका , बिस्मिल्ला हिर रहमानीर या ज़ल जलाले वल इकरामे या हय्यो या क़य्यूमो या हय्यो ला इलाहा इल्ला अन्ता या होवा या मन ला या’-लमो मा होवा ला कैफ़ा होवा ला ऐना होवा ला हैसो' होवा इल्ला होवा या ज़ल-मूलके वल-मलाकूते या ज़ल इज्ज़ते वल-जबरूते, या मलेको या कूददूसो या सलामो या मो'मेनो, या मोही'मेनो, या'अज़ीज़ो, या जब्बारो या मोताकब्बेरो, या खालिक़ो या बारी' या मोसव'वेरो, या मोफीदो या मोदब'बीरो, या शादीदो या मोब'दिओ या मो'ईदों या मोबीदो या वदूदो, या महमूदो या मा'बूदो, या 'ईदों या क़ारीबो या मोजीबो या रक़ीबो या हसीबो या बदीओ' या रफीओ या मणी' या समीओ या अलीमो, या हलीमो, या करीमो, या हकीमो, या क़दीमो, या आलिओ या अज़िमो, या हन्नानो या मन्नानो, या दय्यानो या मूस्तानो, या जलीलो या जमीलो या वकीलों, या कफीलो या मोक़ीलो या मोनीलो या नाबीलो' या दलीलों या हादी या बदी या अव्वलो या आखिरो या ज़हिरो, बातिनो, या क़ा'एम-ओ, या दा'एमो, या आलिमो, या हाकिमो, या क़ाज़ियो, या अदिलो, या फ़ासिलो, या वासिलो, या ताहिरो, या मोतह-हेरो, या क़ादिरो, या मोक़'तदिरो, या कबीरो, या मोताकब'बीरो, या वाहिदो, या अहदों, या समदो, या मन लम यलिद लम यूलद या लम या-कूल-लहू कोफ़ो-अन अहद, या लम यकूल-लहू साहेबतों ला काना मा'अहू वाज़िरून, लत्ता'खज़ा मा'अहू मोशीरण, लह-तजा इला ज़ाहीरिन, ला काना मा'अहू मिन इल्लाहीं ग़ैरोहू, ला इलाहा इल्ला अन्ता फ़'ता'अ-लैयता, अम्मा यक़ू'लूज़-ज़ालेमूना ओलूवन कबीरण, या अलीयो, या शमिखो, या बाज़ेखो, या फ़त्ताहो, या नफ्फाहो, या मूर्तहो, या मोफ़र'रेजो, या नसिरो, या मूंतासिरो, या मोद्रीको, या मोहलिको, या मून-ताक़ीमो, या बा'एसो, या वारिसो, या तालिबो, या ग़ालिबो, या मन ला यफ़'फोतोहू हारेबून, या तव्वाबो, या अव्वाबो, या वह्हाबो, या मोसब-बे-बल असबाबे, या मोफ़त'तेहल अब्वाबे, या मन है मा दो'इया अज्बा, या तहूरो, या शकूरो, या अफ़ू' या ग़फूरो, या नूरल नूरे, या मोदब'बेरल ओमूरे, या लतीफ़ो, या ख़बिरो, या मोजीरो, या मोनीरो, या बसेरो, या नसीरो, या कबीरो, या'वित्रो या फ़र्दोया अबदो, या सनादो, या समादो, या काफ़ी, या शाफ़ी, या वाफ़ी, या मो'आफ़ी, या मोह्सिनो, या मोज्मिलो,या  मोन'इमो, या मोफ्ज़ेलो, या मोताकर 'रेमो या मोताफ़र'रेदो, या मन' अला फ़क़'अहारा, या मन मलका फ़क़'आदरा,या मन बताना,फ़-ख़बर', या मन 'ओबेदा  फ़श'अकरा या मन 'ओसेया फ़'ग़'फरा,या मल ला ताः'वीहिल फ़िकरो,'ला योद-रिकोहू बसारून, या ला  यख़'फ़ा'अलैहे  अत्हारोंन,या राज़े'क़ल बशारे,या मोक़द'देरा कुल्ली कदा'रिन, या'अली-यल'मकाने, या शादीदल  अरकाने, या मोबद-देलज़-ज़माने,या क़बेलल क़ुर'बाने,या ज़ल-मन्ने, वल-अह्साने, या ज़ल-इज्ज़े वस-सुल्ताने,या रहीमो, या  रहमानो, या मन होवा  कुल्ले यौमिन फ़ी शानिन,या मन ला वश-गोलूहू शानून'अन शानिन, या'अज़ीमश-शाने,या मन  होवा बे-कुल्ले मकानिन, या समे'अल-अस्वाते, या मोजीब-अद-दा'वाते, या  मून'जेहत- तले'बाते,  या काज़ेयल-हाजाते, या मोंज़ेलाल-बरकाते, या रहेमल 'आबेराते, या मोक़ीलाल-' असाराते, या  कशेफल-कोरोबाते, या-वली-यल हसनाते, या  रफे'अद-दराजाते, या  मो'ती-यस-सो'लाते, या मोह-ये-यल अम्वाते, या  जमे'अश-शाताते, या मोत्ताले'अन ' अलन्नी-याते, या  रद'दा मा क़द  फता या मन-ला ताश-तबेहो ' अलैहि-ईल अस्वतो, या  मन ला तोज़्जेरो-हूल मस'अला'तो   ला तग-शाहूज़-ज़ोलोमातो, या नूरल-अरज़े  वस-समावाते या सबे'गंने'अमे, या दफ़े-अन-नेक़ामे, या बरे'अल-नेसामे, या जमे'अल  ओमामे, या शफे-यस-सक़ामे या खालेक़न-नूरे, वज़-ज़लमे, या ज़ल जूदे वल-करामे, या मन ला  यता'  अर्श'अहू क़'दामून या  अज्वादल  अज्वादीना, या अक्रमल-अक्रमीना, या अस्मा'अस-समे'इना, या  अब्सारण-नाज़ेरीना, या  जरल-मूस्ता'जीरीना, या  अमनल-ख़ा'एफीना, या ज़हरल-लजीना, या वली-यल  मो'मेनीना या ग़े'यासल मोस-तग'इसीना, या  गैयातत-तालेबीना, या साहेबा कुल्ले गरीबिन, या मुनीसा  कुल्ली  वहीदीन, या मलजा-अ कुल्ले तरिद'दीन, या  मावा कूली  शरीदीन, या  हफेज़ा कुल्ले ज़ल-इअतिन, या  राहेमाश-शैखिल-कबीरे, या रज़ेक़त- तिफ्लीस-सगीरे, या जबर-अल'अजमिल कसीरे, या फ़क-का कुल्ले असीरिन, या मोग्नी-यल-बा'एसिल-फ़कीरे, या इस्मतल-ख़ा'एफिल मूस्ता'जीरे, या  मन लाहूत-तद'बीरो वत'तक़'दीरो, या मनिल'असीरो, अलैहे सहलूंन यसीरून, या मन ला यह'तजो इला तफ़'सीरिन, या  मन  होवा'अला  कुल्ले  शै-ईन क़'दीरून, या मन होवा बे-कुल्ले शै-ईन ख़'बिरून, या मन होवा बे-कुल्ली शै-ईन  बसीरून, या  मूर्सेलर-रेयाहे, या  फ़ा'लेक़ालअस्बाहे, या बा'एसल अर्वाहे, या-ज़ल'जूदे वस-समाहे, या मन बे-यादेही कूल्लो मिफ़'तहिन, या  समे'  कुल्ले  सौतिन या साबेक़ा कुल्ले फौतिन, या मोह-येया कुल्ले  नफ्सिन बा'दल मौते, या 'ओद्दती फ़ी  शिद्दती  या  हाफेज़ी फ़ी  गूरबती, या मूनेसी फ़ी वह'दती, या वली-यी फ़ी ने'मति, या कह्फ़ी हीना तो'ईनिल-मज़'अहिबो  तोसल-इ''मोनिल-अक़'अरिबो व याख्ज़ो-लोनी  कूल्लो  साहेबिन या' इमादा मन ला 'इमादा लहू,या सनादा मन ला सनादा लहू, या  ज़ू'खरा  मन ला’ज़ूख्रा लहू, या हिर्ज़ा मन ला हिर्ज़ा लहू, या कह्फ़ा मन ला कह्फ़ा लहू, या कनज़ा मन ला कनज़ा लहू, या  रूकना मन ला रूकना लहू, या गेयासा मन ला गेयासा लहू , या जरा मन ला जरा लहू, या जरे-यल-लासीक़ो, या  रोकनी-यल-वासीक़ो, या इलाही बीत-तह'क़ीकी या रब्बल-बैतिल-अत्तिकी, या शफ़ी'क़ो, या रफ़ी'क़ो, फुक्कानी मिन हेल-अकील-माज़ी'क़े  वासृफ़ 'अन्नी कुल्ला हम्मिन  गम्मिन  ज़ी'किन वक-फ़ेनी शर्रा  मा’ला’ओतीक़ो व 'इन्नी 'अला मा ओतीक़ो, या  रददा यौसोफा 'अला या'कूबा, या कशेफा ज़र्रे अय्य-ऊबा या गाफ़ेरा ज़म्बे दा'वूदा, या राफ़े' 'इसब्ने मर्यम  मुंजे यहो  मिन ऐदिल या-हूदे, या मोजीबा  निदा'  यूनूसा फ़िज़-ज़ोलोमा-ते या मोस्ता'फ़या मूसा बिल-कलेमाते, या मन ग़ा'फरा ले-आदमा  खाती'अताहो  रफ़ा' इद्रीसा मकानन 'अली-यन बे-रह'मतेही,या मन नज्जा नूहन मिनल गर्क़े, या मन अहलका 'आदन’ निल-ऊला   समूदा फ़मा अब-क़ा  क़ौमा नूहीन मिन क़ब्लो इन्नाहूम कण-ऊ हूम अज़'लमा  अत्गा वल्मो' तफेकता  अहवा, या मन दम्मारा ' अला कौमे लूतिन  दमदमा, 'अला क़ौमे शोईबिन, या मनित-तक-हज़ा इब्राहीमा  खलीलन, या मनित-ताखाज़ा मूसा कलीमान, या मनित-तखाज़ा  मोहम्मदन सल-लल-आहो ' अलैहे  अलेही अजमा'इना  हबी-बन, या मो'तेया लोक्मनल हिकमता वल-वहाबा ले-सोलेमाना मुल्कन, ला यम्बगी ले-अहेदिम-मीम-बा'देहि, या मन  नसारा ज़ल-क़र्नैने ' ऐ-अल-मलूकिल-जब'बेराते या मन 'तल-खिज्रल-हैअता, रददा ले-यूशा 'अबने नून-अश-शमसे बा'दा  गोरूबीहा  या मन राब्ता, अला क़लबे ऊमे मूसा  अहसना फर्जा मा-रयामब-नाते 'इमराना, या मन  हस्सना यहया-ब्ना ज़कारिया मिनज़-ज़म्बे, सक्काना 'अन मूसल-गज़ाबा, या मन बश-शेरा  ज़क’रिय्या'बे-यहया, या मन फदा  इस्मा'इला मिनज़-ज़ब्हे बे-ज़ब'हिन् 'अज़ीम, या मन काबला क़ूर्बाना हा-बिला वज'अलल-ला'नता ' अला क़बीला, या  हज़ेमल-अह्ज़ाबे ले  मोहम्मदीन सल-लल-लाहो ' अलैहे   आलेही सल्ली ‘अला मोहम्मदीन  'आले मोहम्मदीन ' अला जमी'ईल अम्बिय्या' वल-मूरसलीना  मला''कतेकल-मोक़र'रबीना  अहले ता-'अटका अजमा'इना  अस-अलोका बे-कुल्ले मस-'अलातिन सा'अलका बहा अहदूं मिम्मन रज़ी-ता ' अंहो फ़ा'हा'तमता लहू ' अलल इजा-बते, या  अल्लाहो, या अल्लाहो, या  अल्लाहो, या रहमानो, या रहमानो, या रहमानो, या रहीमो, या रहीमो, या रहीमो, या ज़ल-जलाले  वल-इकरामे, या ज़ल-जलाले वल-इकरामे, या ज़ल-जलाले वल-इकरामे, बेहि, बेहि, बेहि, बेहि, बेहि, बेहि, बेहि, अस'अलोका बे-कुल्ले इस्मिन  सम'मैय्ता बेहि नफ़'सका  अंज़ा-इताहू फ़ी शै-ईन मिन कुतो'बेका ओईस-ता'थर्ता बेहि फ़ी 'इल्मिल-गैबी  इनदका    बम' अक़ेदिल-इज्ज़े  मिन 'अरशेका  बे-मून'तहर-रहमते मिन किताबेका  बम लौ   अन्ना मा फिल अरज़े  मिन शाजा'रतीन अक़'लामून वल-बहरो यम'उद्दो-हू मीम-बा'देही सब'अतो अभोरिन मा नफ़े'दत का-लेमातू'ल्लाहे इन्नल-लाहा अज़ीज़ून हकीम,  अस'अलोका बे-अस्मा'एकल हूस्नल-लाती ना'अत्ता'हा फ़ी किताबेका  फ़ा'क़ूल'ता  लिल्लाहिल  अस्मा'उल-हूसना फद-ऊहो बेहा 'कुलता ‘उद’ऊनी अस्ताजिब लकोम व कुलता  इज़ा सा'अल-अक़ा 'इबादी ' अन्नी फ़ा-इन्नी क़री’ बून ओजीबो दा'वता'द-दा' इज़ा दा'अने व कुलटा या 'ल्बादेयल-लज़ीना असरफू ' अला अन्फोसेहीम ला  ता’क्नातू मिन रहमतिल-लाहे इन्नल-लाहा याग़'फेरूज़-ज़ोनूबा जमी-अन इन्नाहू होवल ग़'फूरोर रहीम,  अना अस'अलोका  या इलाही  अदूका या  रब्बे,  अर्जूका  या  सय्यादी    अत्मा' फ़ी इजाबती, या  मौलाया कमा  'अद’तनी  क़द  दा'ओव्तोका कमा अमर्तानी फफ़-अल बी मा अन्ता अह-लोहू, या करीमो वल-हम्दो लील-लाहे रब्बिल' ’’मीना, सल-लल-लाहो'अला मोहम्मदीन आलेही अजमा'इन

 

बिस्मिल्ला हिर रहमानीर रहीम

दुआए मशलूल

हिंदी अनुवाद (प्रत्येक लाइन के अनुसार)

अरबी ट्रांसलिटरेशन

 अरबी टेक्स्ट

O Allah, I beseech You with Your Name;

अल्ला-हूम्मा इन्नी अस'अलोका, बे-इसमेका 

اَللّـهُمَّ إِنّي أَسْأَلُكَ بِاسْمِكَ

the Name of Allah, the Most Merciful, the Benign

बिस्मिल्ला हिर रहम नीर रहीम.

بِسْمِ اللهِ الرَّحْمنِ الرَّحيمِ

O Lord of Majesty and Generosity;

या ज़ल जलाले वल इकरामे.

يا ذَا الْجَلالِ وَالإِكرَامِ

O Living; O Self-Subsisting,

या हय्यो. या क़य्यूमो 

يا حَيُّ يا قَيُّومُ

O Ever-living, there is no God but You.

या हय्यो ला इलाहा इल्ला अन्ता

يا حَيُّ لا إِلـٰهَ إِلاّ أَنْتَ،

O You that are "He"

या होवा.

يا هُوَ

of whom no one knows what "He" is,

या मन ला या’अ.लमो मा होवा.

يا مَنْ لا يَعْلَمُ ما هُوَ

nor how "He" is,

 ला कैफ़ा होवा.

وَلا كَيْفَ هُوَ

nor where "He" is, except "He."

 ला ऐना होवा  ला हैथ' होवा इल्ला होवा.

وَلا أَيْنَ هُوَ وَلا حَيْثُ هُوَ إِلاّ هُوَ،

O Lord of the Great Kingdom and Supremacy.

या ज़ल-मूलके वल-मलाकूते

يا ذَا المُلْكِ وَالْمَلَكوُتِ

O Lord of Honour and Omnipotence:

या ज़ल इज्ज़ते वल-जबरूते,

يا ذَا الْعِزَّةِ وَالْجَبَروُتِ،

O Sovereign Lord, O Holy One!

या मलेको. या कूददूसो 

يا مَلِكُ يا قُدُّوسُ،

O Peace; O Keeper of Faith;

या सलामो. या मो'मेनो,

يا سَلامُ يا مُؤْمِنُ

O Guardian O Revered One;

या मोही'मेनो, या ' अज़ीज़ो,

يا مُهَيْمِنُ يا عَزيزُ

O Compeller; O Superb.

या जब्बरो या मोताकब्बेरो,

يا جَبّارُ يا مُتَكَبّـِرُ

O Creator, O Maker of all things from nothing;

या खालिक़ो या बारी'

يا خالِقُ يا بارِئُ

O Artist; O Beneficent;

या मोसव'वेरो, या मोफीदो 

يا مُصَوّ ِر يا مُفيدُ

O Administrator; O Severe (in wrath);

या मोदब'बीरो, या शादीदो 

يا مُدَبّـِرُ يا شَديدُ

O Inventor; O Restorer;

या मोब'दिओ या मो'ईदों 

يا مُبْدِئُ يا مُعيدُ

O Originator; O Most Loving:

या मोबीदो या वदूदो,

يا مُبيدُ يا وَدُودُ

O Praised; O Adored.

या महमूदो या मा'बूदो,

يا مَحْمُودُ يا مَعْبوُدُ

O You that are distant yet near;

या 'ईदों या क़ारीबो 

يا بَعيدُ يا قَريبُ

O Answerer of prayer; O Observer;

या मोजीबो या रक़ीबो 

يا مُجيبُ يا رِقيبُ

O Reckoner. O Innovator;

या हसीबो या बदीओ'

يا حَسيبُ يا بَديعُ

O Exalted; O Unassailable;

या रफीओ या मणी' 

يا رَفيعُ يا مَنيعُ

O Hearer. O Knower;

या समीओ या अलीमो,

يا سَميعُ يا عَليمُ

O Forbearing; O Bountiful;

या हलीमो, या करीमो,

يا حَليمُ يا كَريمُ

O Wise; O Eternal;

या हकीमो, या क़दीमो,

يا حَكيمُ يا قَديمُ

O Lofty; O Great.

या आलिओ या अज़िमो,

يا عَلِيُّ يا عَظيمُ

O most Compassionate; O Giver of all good;

या हन्नानो या मन्नानो,

يا حَنّانُ يا مَنّانُ

O most perfect Requiter of good and evil; O You whose help is sought for

या दय्यानो या मूस्तानो,

يا دَيّانُ يا مُسْتَعانُ

O Majestic; O Glorious;

या जलीलो या जमीलो 

يا جَليلُ يا جَميلُ

O Trusted; O Guardian;

या वकीलों, या कफीलो

يا وَكيلُ يا كفَيلُ

O Alleviator of suffering; O Fulfiller of hopes;

या मोक़ीलो या मोनीलो 

يا مُقيلُ يا مُنيلُ

O Guide; O Magnanimous.

या नाबीलो' या दलीलों  

يا نَبيلُ يا دَليلُ

O Giver of guidance; O Commencer;

या हादी या बदी 

يا هادي يا بادي

O First; O Last;

या अव्वलो या आखिरो 

يا أَوَّلُ يا آخِرُ

O Evident; O Hidden.

या ज़हिरो,  बातिनो,

يا ظاهِرُ يا باطِنُ

O Established; O Everlasting;

या क़ा'एम-ओ, या दा'एमो,

يا قائِمُ يا دائِمُ

O Knowing; O Ruler;

या' आलिमो, या हाकिमो,

يا عالِمُ يا حاكِمُ

O Dispenser of justice; O Equitable;

या क़ाज़ियो, या 'अदिलो,

يا قاضي يا عادِلُ

O You that disjoins and unites

या फ़ासिलो, या वासिलो,

يا فاصِلُ يا واصِلُ

; O Pure; O Purifier;

या ताहिरो, या मोतह-हेरो,

يا طاهِرُ يا مُطَهّـِرُ

O Powerful; O Almighty;

या क़ादिरो, या मोक़'तदिरो,

يا قادِرُ يا مُقْتَدِرُ

O Great; O Magnificent.

या कबीरो, या मोताकब'बीरो,

يا كَبيرُ يا مُتَكَبّـِرُ

O One; O Matchless; O Eternal and Absolute;

या वाहिदो, या अहदों, या समदो,

يا واحِدُ يا أَحَدُ يا صَمَدُ

O You that begets not, nor is He begotten;

या मन लम वालिद  लम यूलद 

يا مَنْ لَمْ يَلِدْ وَلَمْ يوُلَدْ

nor is there equal to You anyone

या लम या-कूल -लहू कोफ़ो-अन अहद,

وَلَمْ يَكُنْ لَهُ كُفُواً أَحَدٌ

nor have You any spouse;

या लम यकूल-लहू साहेबतों

وَلَمْ يَكُنْ لَهُ صاحِبَةٌ

nor any bearer of Your burden;

 ला काना मा'अहू वाज़िरून,

وَلا كانَ مَعَهُ وَزيرٌ،

nor any consultant to give You advice;

 लत्ता'खज़ा मा'अहू मोशीरण,

وَلاَ اتَّخَذَ مَعَهُ مُشيراً،

nor do You need any supporter;

 लह-तजा इला ज़ाहीरिन,

وَلاَ احْتاجَ إِلىٰ ظَهيرٍ

nor is there with You any other deity;

 ला काना मा'अहू मिन इल्लाहीं ग़ैरोहू,  

وَلا كانَ مَعَهُ مِنْ إِلـٰهٍ غَيْرُهُ،

There is no God but You,

ला इलाहा इल्ला अन्ता 

لا إِلـٰهَ إِلاّ أَنْتَ

and You are far exalted with great excellence above all that which the unjust folk do say concerning You

फ़'ता'अ-लैयता, अम्मा यक़ू'लूज़-ज़ालेमूना' ओलूवन  कबीरण,

فَتَعالَيْتَ عَمّا يَقُولُ الظّالِمُونَ عُلُوّاً كَبيراً،

O High and Lofty;

या अलीयो, या शमिखो,

يا عَلِيُّ يا شامِخُ

O most Glorious; O Opener;

या बाज़ेखो, या फ़त्ताहो,

يا باذِخُ يا فَتّاحُ

O Diffuser of fragrance; O Tolerant;

या नफ्फाहो, या मूर्तहो,

يا نَفّاحُ يا مُرْتاحُ

O Reliever; O Helper;

या मोफ़र'रेजो, या नसिरो,

يا مُفَرّ ِجُ يا ناصِرُ

O Victorious; O Overtaker;

या मूंतासिरो, या मोद्रीको,

يا مُنْتَصِرُ يا مُدْرِكُ

O Destroyer; O Avenger;

या मोहलिको, या मून-ताक़ीमो,

يا مُهْلِكُ يا مُنْتَقِمُ

O Resurrector; O Inheritor;

या बा'एसो, या वारिसो,

يا باعِثُ يا وارِثُ

O Seeker; O Conquerer;

या तालिबो, या ग़ालिबो,

يا طالِبُ يا غالِبُ

O You from Whom no fugitive can escape.

या मन ला यफ़'फोतोहू हारेबून,

يا مَنْ لا يَفُوتُهُ هارِبٌ،

O Acceptor of repentance; O Ever-forgiving;

या तव्वाबो, या अव्वाबो,

يا تَوّابُ يا أَوّابُ

O Great Bestower; O Causer of all causes;

या वह्हाबो, या मोसब-बे-बल असबाबे,

يا وَهّابُ يا مُسَبّـِبَ الأَسْبابِ

O Opener of doors (of relief and salvation);

या मोफ़त'तेहल अब्वाबे,

يا مُفَتّـِحَ الأَبْوابِ

O You that answers howsoever You are invoked.

या मन हैथो मा दो'इया अज्बा,

يا مَنْ حَيْثُ ما دُعِيَ أَجابَ،

O Purifier; O Giver of manifold rewards;

या तहूरो, या शकूरो,

يا طَهُورُ يا شَكُورُ

O Excuser; O Pardoner;

या ' अफ़ू', या ग़फूरो,

يا عَفُوُّ يا غَفُورُ

O Light of all lights; O Director of all affairs.

या नूरल नूरे, या मोदब'बेरल ओमूरे,

يا نُورَ النُّورِ يا مُدَبّـِرَ الأُموُرِ

O Ever Blissful; O All-Aware;

या लतीफ़ो, या ख़बिरो,

يا لَطيفُ يا خَبيرُ

O Protector; O Luminous;

या मोजीरो, या मोनीरो,

يا مُجيرُ يا مُنيرُ

O Seer; O Supporter; O Great.

या बसेरो, या नसीरो, या कबीरो,

يا بَصيرُ يا ظَهِيرُ يَا كَبيرُ

O Lone; O Unique;

या वित्रो या फ़र्दो

يا وِتْرُ يا فَرْدُ

O Everlasting; O Upholder;

या अबदो, या सनादो,

يا أَبَدُ يا سَنَدُ

O Eternal and Absolute.

या समादो,

يا صَمَدُ،

O Sufficer; O Healer;

या काफ़ी, या शाफ़ी,

يا كافي يا شافي

O Fulfiller of promises; O Deliverer of welfare.

या वाफ़ी, या मो'आफ़ी,

يا وافي يا مُعافي

O Benefactor; O Beautifier;

या मोह्सिनो, या मोज्मिलो,

يا مُحْسِنُ يا مُجْمِلُ

O Bestower of grace; O Grantor of favours;

या मोन'इमो, या मोफ्ज़ेलो,

يا مُنْعِمُ يا مُفْضِلُ

O Gracious; O Peerless.

या मोताकर'रेमो, या मोताफ़र'रेदो,

يا مُتَكَرّ ِمُ يا مُتَفَرّ ِدُ،

O You that being Exalted, overwhelmed;

या मन' अला फ़क़'अहारा,

يا مَنْ عَلا فَقَهَرَ

O You that being Master of all, have absolute power;

या मन मलका फ़क़'आदरा,

يا مَنْ مَلَكَ فَقَدَرَ،

O You, who being hidden, are well informed;

या मन बताना, फ़-ख़बर',

يا مَنْ بَطَنَ فَخَبَرَ،

O You, who being worshipped, rewards

या मन 'ओबेदा फ़श'अकरा 

يا مَنْ عُبِدَ فَشَكَرَ،

O You that being disobeyed forgives;

या मन 'ओसेया फ़'ग़'फरा 

يا مَنْ عُصِيَ فَغَفَرَ،

O You Whom no thought can fully comprehend;

या मल ला ताः-वीहिल फ़िकरो,

يا مَنْ لا يَحْويهِ الْفِكَرُ

nor sight perceive

या ला योद-रिकोहू बसारून,

وَلا يُدْرِكُهُ بَصَرٌ،

nor from whom any impression is hidden,

या ला यख़'फ़ा ' अलैहे अत्हारोंन,

وَلا يَخْفىٰ عَلَيْهِ أَثَرٌ،

O Nourisher of Mankind;

या राज़े'क़ल बशारे,

يا رازِقَ الْبَشَرِ

O Ordainer of every destiny.

या मोक़द'देरा कुल्ली कदा'रिन,

يا مُقَدّ ِرَ كُلّ ِ قَدَرٍ،

O You of Exalted position;

या' अली-यल'मकाने,

يا عالِيَ الْمَكانِ

O You Formidable in Your foundations;

या शादीदल अरकाने,

يا شَديدَ الأَرْكانِ

O Changer of times;

या मोबद-देलज़-ज़माने,

يا مُبَدّ ِلَ الزَّمانِ

O Acceptor of sacrifice;

या क़बेलल क़ुर'बाने,

يا قابِلَ الْقُرْبانِ

O You full of favours and benefactions;

या ज़ल-मन्ने, वल-अह्साने,

يا ذَا الْمَنّ ِ وَالإِحْسانِ

O Lord of Honor and Supremacy;

या ज़ल-इज्ज़े वस-सुल्ताने,

يا ذَا الْعِزَّةِ وَالسُّلْطانِ

O All Merciful; O most Compassionate;

या रहीमो, या रहमानो,

يا رَحيمُ يَا رَحـْمٰنُ

O You that has each day a distinctive Glory

या मन होवा कुल्ले यौमिन फ़ी शानिन,

يا مَنْ هُوَ كُلّ ِ يَوُمٍ في شَأْنٍ

while no aspect of Your Glory is erased by the prominence of another aspect.

या मन ला वश-गोलूहू शानून ' अन शानिन,

يا مَنْ لا يَشْغَلُهُ شَأْنٌ عَنْ شَأْنٍ،

Oh Lord of great Glory

या ' अज़ीमश-शाने,

يا عَظيمَ الشَّأنِ

O You that are present in every place.

या मन होवा बे-कुल्ले मकानिन,

يا مَنْ هُوَ بِكُلّ ِ مَكانٍ،

O Hearer of all voices;

या समे'अल-अस्वाते,

يا سامِعَ الأَصْواتِ

O Answerer of prayers;

या मोजीब-अद-दा'वाते,

يا مُجيبَ الدَّعَواتِ

O Giver of success in all requirements;

या मून'जेहत- तले'बाते,

يا مُنْجِحَ الطَّلِباتِ

O Fulfiller of all needs;

या काज़ेयल-हाजाते,

يا قاضِيَ الْحاجاتِ

O Bestower of blessings;

या मोंज़ेलाल-बरकाते,

يا مُنْزِلَ الْبَرَكاتِ

O You that takes pity on our tears.

या रहेमल 'आबेराते,

يا راحِمَ الْعَبَراتِ

O You that raises from the pitfalls;

या मोक़ीलाल-' असाराते,

يا مُقيلَ الْعَثَراتِ

O You that relieves agonies;

या कशेफल-कोरोबाते,

يا كاشِفَ الْكُرُباتِ

O You that are the Cherisher of good deeds.

या-वली-यल हसनाते,

يا وَلِيَّ الْحَسَناتِ

O You that raises men in rank and degree;

या रफे'अद-दराजाते,

يا رافِعَ الدَّرَجاتِ

O You that accedes to requests;

या मो'ती-यस-सो'लाते,

يا مُؤْتِيَ السُّؤْلاتِ

O You that brings the dead to life;

या मोह-ये-यल अम्वाते,

يا مُحْيِيَ الأَمْواتِ

O You that gathers together that which is scattered.

या जमे'अश-शाताते,

يا جامِعَ الشَّتاتِ

O You that are informed of all intentions;

या मोत्ताले'अन ' अलन्नी-याते,

يا مُطَّلِعاً عَلَىٰ النّـِيّاتِ

You that restores that which has been lost;

या रद'दा मा क़द फता,

يا رادَّ ما قَدْ فاتَ

O You that are not confused by a multiplicity of voices;

या मन-ला ताश-तबेहो 'अलैहि-ईल अस्वतो,

يا مَنْ لا تَشْتَبِهُ عَلَيْهِ الأَصْواتُ

O You that are not harassed by a multitude of petitions;

या मन ला तोज़्जेरो-हूल मस'अला'तो 

يا مَنْ لا تُضْجِرُهُ الْمَسْأَلاتُ

and Whom no darkness can hide or cover;

 ला तग- शाहूज़-ज़ोलोमातो,

وَلا تَغْشاهُ الظُّلُماتُ،

O Light of heaven and earth.

या नूरल-अरज़े वस-समावाते

يا نُورَ الأَرْضِ والسَّماواتِ

O Perfector of blessings;

या सबे'गंने'अमे,

يا سابِغَ النّـِعَمِ

O Averter of calamaties;

या दफ़े-अन-नेक़ामे,

يا دافِعَ النّـِقَمِ،

O Producer of zephyrs;

या बरे'अल-नेसामे,

يا بارِئَ النَّسَمِ

O Gatherer of nations;

या जमे'अल ओमामे,

يا جامِعَ الأُمَمِ

O Healer of disease;

या शफे-यस-सक़ामे

يا شافِيَ السَّقَمِ

O Creator of light and darkness;

या खालेक़न-नूरे, वज़-ज़लमे,

يا خالِقَ النُّورِ وَالظُّلَمِ

O Lord of generosity and munificence;

या ज़ल जूदे वल-करामे,

يا ذَا الْجُودِ وَالْكَرَمِ

O You (on) whose throne no one can set foot!

या मन ला यता' अर्श'अहू क़'दामून 

يا مَنْ لا يَطَأُ عَرْشَهُ قَدَمٌ،

O You more generous than the most generous;

या अज्वादल अज्वादीना,

يا أَجْوَدَ الأَجْوَدينَ

O You more munificent than the most munificent;

या अक्रमल-अक्रमीना,

يا أَكْرَمَ الأَكْرَمينَ

O You most keen of hearing than the most keen of hearing;

या अस्मा'अस-समे'इना,

يا أَسْمَعَ السّامِعينَ

O You more keen of vision than the most perceiving;

या अब्सारण-नाज़ेरीना,

يا أَبْصَرَ النّاظِرينَ

O Protecting neighbor of those that seek Your neighborhood.

या जरल-मूस्ता'जीरीना,

يا جارَ الْمُسْتَجيرينَ

O Refuge of the fearful;

या अमनल-ख़ा'एफीना,

يا أَمانَ الْخائِفينَ

O supporter of those who take refuge (in You)

या ज़हरल-लजीना,

يا ظَهْرَ اللاّجينَ

O Patron of the faithful;

या वली-यल मो'मेनीना,

يا وَلِيَّ الْمُؤْمِنينَ

O Helper of those that seek Your help;

या ग़े'यासल मोस-तग'इसीना,

يا غِياثَ الْمُسْتَغيثينَ

O ultimate Goal of those that aspire.

या गैयातत-तालेबीना,

يا غايَةَ الطّالِبينَ

O Companion of all strangers;

या साहेबा कुल्ले गरीबिन,

يا صاحِبَ كُلّ ِ غَريبٍ

O Friend of all the lonely ones;

या मुनीसा कुल्ली वहीदीन,

يا مُؤْنِسَ كُلّ ِ وَحيدٍ،

O Refuge of all outcasts;

या मलजा-अ कुल्ले तरिद'दीन,

يا مَلْجَأَ كُلّ ِ طَريدٍ

O Retreat of all persecuted ones;

या मावा कूली शरीदीन,

يا مَأْوىٰ كُلّ ِ شَريدٍ

O Guardian of all those who stray.

या हफेज़ा कुल्ले ज़ल-इअतिन,

يا حافِظَ كُلّ ِ ضالَّةٍ،

O You that takes pity on the aged and decrepit;

या राहेमाश-शैखिल-कबीरे,

يا راحِمَ الشَّيْخِ الْكَبيرِ،

O You that nourishes the little baby;

या रज़ेक़त- तिफ्लीस-सगीरे,

يا رازِقَ الّطِفْلِ الصَّغيرِ

O You that joins together broken ones;

या जबर-अल'अजमिल कसीरे,

يا جابِرَ الْعَظْمِ الْكَسيرِ

O Liberator of all prisoners;

या फ़क-का कुल्ले असीरिन,

يا فاكَّ كُلّ ِ أَسيرٍ،

O Enricher of the miserable poor;

या मोग्नी-यल-बा'एसिल-फ़कीरे,

يا مُغْنِيَ الْبائِسِ الْفَقيرِ،

O Protector of the frightened refugees;

या इस्मतल-ख़ा'एफिल मूस्ता'जीरे,

يا عِصْمَةَ الْخائِفِ الْمُسْتَجيرِ،

O You for Whom alone are both destiny and disposal;

या मन लाहूत-तद'बीरो वत' तक़'दीरो,

يا مَنْ لَهُ التَّدْبيرُ وَالتَّقْديرُ

O You for Whom all difficult things are simple and easy;

या मनिल'असीरो, अलैहे सहलूंन यसीरून

يا مَنِ الْعَسيرُ عَلَيْهِ سَهْلٌ يَسيرٌ،

O You that does not need any explanation.

या मन ला यह'तजो इला तफ़'सीरिन,

يا مَنْ لا يَحْتاجُ إِلىٰ تَفْسيرٍ،

O You Mighty over all things;

या मन होवा' अला कुल्ले शै-ईन क़'दीरून,

يا مَنْ هُوَ عَلىٰ كُلّ ِ شْيءٍ قَديرٌ

O You Knower of all things.

या मन होवा बे-कुल्ले शै-ईन ख़'बिरून,

يا مَنْ هُوَ بِكُلّ ِ شَيْءٍ خَبيرٌ

O You Seer of all things.

या मन होवा बे-कुल्ली शै-ईन बसीरून,

يا مَنْ هُوَ بِكُلّ ِ شَيْءٍ بَصيرٌ،

O You that makes breezes blow;

या मूर्सेलर-रेयाहे,

يا مُرْسِلَ الرّ ِياحِ

O You that cleaves the day-break;

या फ़ा'लेक़ाल अस्बाहे,

يا فالِقَ الإِصْباحِ

O Reviver of the spirits;

या बा'एसल अर्वाहे,

يا باعِثَ الأَرْواحِ

O Lord of Generosity and Clemency;

या-ज़ल'जूदे वस-समाहे,

يا ذَا الْجُودِ وَالسَّماحِ

O You in Whose hands are all keys.

या मन बे-यादेही कूल्लो मिफ़'तहिन,

يا مَنْ بِيَدِهِ كُلُّ مِفْتاحٍ،

O Hearer of all voices;

या समे' कुल्ले सौतिन,

يا سامِعَ كُلّ ِ صَوْتٍ

O You earlier in time than all that have passed away;

या साबेक़ा कुल्ले फौतिन,

يا سابِقَ كُلّ ِ فَوْتٍ

O Giver of life to every soul after death.

या मोह-येया कुल्ले नफ्सिन बा'दल मौते,

يا مُحْيِيَ كُلّ ِ نَفْسٍ بَعْدَ المَوْتِ،

O my Means of defense in confronting hardships;

या 'ओद्दती फ़ी शिद्दती 

يا عُدَّتي في شِدَّتي

O my Guardian in strange lands;

या हाफेज़ी फ़ी गूरबती,

يا حافِظيِ في غُرْبَتي

O my Friend in my loneliness;

या मूनेसी फ़ी वह'दती,

يا مُؤنِسي في وَحْدَتي

O my Master in my bliss;

या वली-यी फ़ी ने'मति,

يا وَلِيّي في نِعْمَتي

O my Refuge at the time when the journey does tire me out

या कह्फ़ी हीना तो'ईनिल-मज़'अहिबो 

يا كَهْفي حينَ تُعْيينِي الْمَذاهِبُ

and my kinsfolk hand me over to my foes

 तोसल-इ''मोनिल-अक़'अरिबो

وَتُسَلّـِمُنيِ الأَقارِبُ

and all my comrades forsake me.

 याख्ज़ो-लोनी कूल्लो साहेबिन 

وَيَخْذُلُني كُلُّ صاحِبٍ

O Supporter of those who have no support;

या' इमादा मन ला 'इमादा लहू,

يا عِمادَ مَنْ لا عِمادَ لَهُ،

O Guarantor of those who have no guarantee;

या सनादा मन ला सनादा लहू,

يا سَنَدَ مَنْ لا سَنَدَ لَهُ،

O Wealth of those who have no wealth;

या ज़ू'खरा मन ला ज़ूख्रा लहू,

يا ذُخْرَ مَنْ لا ذُخْرَ لَهُ،

O Means of those who have no strength;

या हिर्ज़ा मन ला हिर्ज़ा लहू,

يا حِرْزَ مَنْ لا حِرْزَ لَهُ،

O Refuge of those who have no refuge;

या कह्फ़ा मन ला कह्फ़ा लहू,

يا كَهْفَ مَنْ لا كَهْفَ لَهُ،

O Treasure of those who have no treasure;

या कनज़ा मन ला कनज़ा लहू,

يا كَنْزَ مَنْ لا كَنْزَ لَهُ،

O He who relies on those who have none to rely on,

या रूकना मन ला रूकना लहू,

يا رُكْنَ مَنْ لا رُكْنَ لَهُ،

O Helper of those who have no helper;

या गेयासा मन ला गेयासा लहू ,

يا غِياثَ مَنْ لا غِياثَ لَهُ،

O Neighbour of those who have no neighbour.

या जरा मन ला जरा लहू,

يا جارَ مَنْ لا جارَ لَهُ،

O my Neighbour that are adjacent;

या जरे-यल-लासीक़ो,

يا جارِيَ اللَّصيقَ،

O my Support that are firm;

या रोकनी-यल-वासीक़ो,

يا رُكْنِيَ الَْوَثيقَ،

O my God that are worshipped by virtue of positive knowledge;

या इलाही बीत- तह'क़ीकी

يا إِلـٰهِي بِالتَّحْقيقِ،

O Lord of the Ancient House (the Ka'ba);

या रब्बल-बैतिल-अत्तिकी,

يا رَبَّ الْبَيْتِ الْعَتيقِ،

O You full of loving and kindness; O nearest Friend.

या शफ़ी'क़ो, या रफ़ी'क़ो,

يا شَفيقُ يا رَفيقُ

Liberate me from the choking fetters,

फुक्कानी मिन हेल-अकील-माज़ी'क़े 

فُكَّني مِنْ حَلَقِ الْمَضيقِ،

Remove from me all sorrow, suffering and grief,

वासृफ़ ' अन्नी कुल्ला हम्मिन  गम्मिन   ज़ी'किन 

وَاصْرِفْ عَنّي كُلَّ هَمّ ٍ وَغَمّ ٍ وَضيقٍ،

Protect me from the evil that I am unable to bear,

वक-फ़ेनी शर्रा मा ला ओतीक़ो

وَاكْفِني شَرَّ ما لا أُطيقُ،

and help me in that which I can bear,

 'इन्नी 'अला मा ओतीक़ो,

وَأَعِنّي عَلىٰ ما أُطيقُ،

O You that did restore Yusuf unto Yaqub;

या रददा यौसोफा ' अला या'कूबा,

يا رادَّ يُوسُفَ عَلىٰ يَعْقُوبَ،

O You that did cure Ayyub of his malady;

या कशेफा ज़र्रे अय्य-ऊबा 

يا كاشِفَ ضُرّ ِ أَيُّوبَ،

O You that did forgive the fault of Dawood;

या गाफ़ेरा ज़म्बे दा'वूदा,

يا غافِرَ ذَنْبِ داوُدَ،

O You that did lift up Isa

या राफ़े' 'इसब्ने मर्यम 

يا رافِعَ عيسَىٰ بْنِ مَرْيَمَ

and saved him from the clutches of the Jews;

 मुंजे यहो मिन ऐदिल या-हूदे,

وَ مُنْجِيَهُ مِنْ أَيْدِي الْيَهوُدِ،

O You that did answer the prayer of Yunus from the darkness;

या मोजीबा निदा' यूनूसा फ़िज़-ज़ोलोमा-ते

يا مُجيبَ نِداءِ يُونُسَ فِي الظُّلُماتِ،

O You that did choose Musa by means of Your inspired words;

या मोस्ता'फ़या मूसा बिल- कलेमाते,

يا مُصْطَفِيَ مُوسىٰ بِالْكَلِماتِ،

O You that did forgive the omission of Adam

या मन ग़ा'फरा ले-आदमा खाती'अताहो 

يا مَنْ غَفَرَ لآِدَمَ خَطيـئَتَهُ

and lifted up Idris to an exalted station by Your mercy;

 रफ़ा' इद्रीसा मकानन 'अली-यन बे-रह'मतेही

وَرَفَعَ إِدْريسَ مَكاناً عَلِيّاً بِرَحْمَتِهِ،

O You that did save Nooh from drowning;

या मन नज्जा नूहन मिनल गर्क़े,

يا مَنْ نَجّىٰ نُوحاً مِنَ الْغَرَقِ،

O You that did destroy the former tribe of Ad

या मन अहलका 'आदन निल-ऊला 

يا مَنْ أَهْلَكَ عاداً الأُولىٰ

and then Thamud, so that no trade of them remained,

 समूदा फ़मा अब-क़ा 

وَثَمُودَ فَما أَبْقىٰ

and destroyed the people of Noah before that,

 क़ौमा नूहीन मिन क़ब्लो 

وَقَوْمَ نوُحٍ مِنْ قَبْلُ

for verily they were the most unjust and most rebellious;

इन्नाहूम कण-ऊ हूम अज़'लमा  अत्गा

إِنَّهُمْ كانُوا هُمْ أَظْلَمَ وَأَطْغىٰ،

and overturned the ruined and deserted towns;

वल्मो'तफेकता अहवा,

وَالْمُؤْتَفِكَةَ أَهْوىٰ

O You that destroyed the people of Lot;

या मन दम्मारा ' अला कौमे लूतिन 

يا مَنْ دَمَّرَ عَلىٰ قَوْمِ لوُطٍ

and annihilated the people of Sho'aib;

 दमदमा, 'अला क़ौमे शोईबिन,

وَدَمْدَمَ عَلىٰ قَوْمِ شُعَيْبٍ،

O You that chose Ibrahim as a friend;

या मनित- तक-हज़ा इब्राहीमा खलीलन,

يا مَنِ اتَّخَذَ إِبْراهيمَ خَليلاً،

O You that chose Musa as one spoken unto;

या मनित-ताखाज़ा मूसा कलीमान,

يا مَنِ اتَّخَذَ مُوسىٰ كَليماً

and chose Muhammed (Your blessings be upon him and his Progeny, all of them) as Your Beloved;

या मनित-तखाज़ा मोहम्मदन सल-लल-आहो ' अलैहे  अलेही अजमा'इना हबी-बन,

وَاتَّخَذَ مُحَمَّداً صَلَّىٰ اللهُ عَلَيْهِ وَآلِهِ وَعَلَيْهِمْ أَجْمَعينَ حَبيباً،

O You that gave unto Luqman wisdom;

या मो'तेया लोक्मनल हिकमता 

يا مُؤْتِيَ لُقْمانَ الْحِكْمَةَ

and bestowed upon Sulaiman a kingdom the like of which shall not be merited by anyone after him;

वल-वहाबा ले-सोलेमाना मुल्कन, ला यम्बगी ले-अहेदिम-मीम-बा'देहि,

وَالْواهِبَ لِسُلَيْمانَ مُلْكاً لا يَنْبَغي لِأَحَدٍ مِنْ بَعْدِهِ،

O You that did afford succour unto the Zul Qarnayn  against the mighty tyrants;

या मन नसारा ज़ल-क़र्नैने ' ऐ-अल-मलूकिल-जब'बेराते 

يا مَنْ نَصَرَ ذَا الْقَرْنَيْنِ عَلَىٰ الْمُلُوكِ الْجَبابِرَةِ،

O You that did grant unto Khizr long life;

या मन 'तल-खिज्रल-हैअता,

يا مَنْ أَعْطَىٰ الْخِضْرَ الْحَياةَ،

and brought back for Yusha, the son of Nun, the sun after it had set;

 रददा ले- यूशा 'अबने नून-अश-शमसे बा'दा  गोरूबीहा 

وَرَدَّ لِيُوشَعَ بْنِ نوُن الشَّمْسَ بَعْدَ غرُوُبِها

O You that gave solace unto the heart of Musa's mother;

या मन राब्ता, अला क़लबे ऊमे मूसा 

يا مَنْ رَبَطَ عَلىٰ قَلْبِ أُمّ ِ مُوسىٰ

and protected the chastity of Mariam, the daughter of Imran;

 अहसना फर्जा मा-रयामब-नाते 'इमराना,

وَأَحْصَنَ فَرْجَ مَرْيَمَ ابْنَتِ عِمْرانَ،

O You that did fortify Yahya, the Son of Zakaria against sin;

या मन हस्सना यहया-ब्ना ज़कारिया मिनज़-ज़म्बे,

يا مَنْ حَصَّنَ يَحْيَىٰ بْنَ زَكَرِيّا مِنَ الذَّنْبِ

and abated the wrath for Musa;

 सक्काना 'अन मूसल-गज़ाबा,

وَسَكَّنَ عَنْ مُوسَىٰ الْغَضَبَ،

O You that gave glad tidings of (the Birth of) Yahya unto Zakaria;

या मन बश-शेरा ज़करिय्या'बे-यहया,

يا مَنْ بَشَّرَ زَكَرِيّا بِيَحْيىٰ،

O You that saved Ismaeel from slaughter by substituting for him the Great Sacrifice;

या मन फदा इस्मा'इला मिनज़-ज़ब्हे बे-ज़ब'हिन् 'अज़ीम,

يا مَنْ فَدا إِسْماعيلَ مِنَ الذَّبْحِ بِذِبْحٍ عَظيمٍ،

O You that did accept the offering of Habeel

या मन काबला क़ूर्बाना हा-बिला 

يا مَنْ قَبِلَ قُرْبانَ هابيلَ

and placed the curse upon Qabeel.

वज'अलल-ला'नता ' अला क़बीला,

وَجَعَلَ اللَّعْنَةَ عَلىٰ قابيلَ،

O Subduer of the alien hordes for Muhammad - the blessings of Allah be upon him and his Progeny -

या हज़ेमल-अह्ज़ाबे ले मोहम्मदीन सल-लल-लाहो ' अलैहे  आलेही

يا هازِمَ الأَحْزابِ لِمُحَمَّدٍ صَلَّىٰ اللهُ عَلَيْهِ وَآلِهِ،

bestow Your blessings upon Muhammad and the Progeny of Muhammad

सल्ली ‘अला मोहम्मदीन  'आले मोहम्मदीन 

صَلّ ِ عَلىٰ مُحَمَّدٍ وَآلِ مُحَمَّدٍ

and upon all Your Messengers and upon the Angels that are near You

' अला जमी'ईल अम्बिय्या' वल-मूरसलीना   मला''कतेकल-मोक़र'रबीना 

وَ عَلىٰ جَميعِ الْمُرْسَلينَ وَمَلائِكَتِكَ الْمُقَرَّبينَ

and upon all Your obedient servants.

 अहले ता-'अटका अजमा'इना 

وَأَهْلِ طاعَتِكَ أَجْمَعينَ،

And I beg of You all the requests which anyone has begged of You with whom You has been pleased

 अस-अलोका बे-कुल्ले मस-'अलातिन  सा'अलका बहा अहदूं मिम्मन रज़ी-ता ' अंहो 

وَأَسْأَلُكَ بِكُلّ ِ مَسْأَلَةٍ سَأَلَكَ بِها أَحَدٌ مِمَّنْ رَضيتَ عَنْهُ،

and unto whom You has assured the granting thereof,

फ़ा'हा'तमता लहू ' अलल इजा-बते,

فَحَتَمْتَ لَهُ عَلَىٰ الإِجابَةِ

O Allah, O Allah, O Allah,

या अल्लाहो, या अल्लाहो, या अल्लाहो,

يا اَللهُ يا اَللهُ يا اَللهُ،

O Most Merciful, O Most Merciful, O Most Merciful,

या रहमानो, या रहमानो, या रहमानो,

يا رَحـْمٰنُ يا رَحمنُ يا رَحـْمٰنُ ،

O Most Beneficient, O Most Beneficient, O Most Beneficient,

या रहीमो, या रहीमो, या रहीमो,

يا رَحيمُ يا رَحيمُ  يا رَحيمُ،

O Lord of Majesty and Grace, O Lord of Majesty and Grace, O Lord of Majesty and Grace.

या ज़ल-जलाले वल-इकरामे, या ज़ल-जलाले  वल-इकरामे, या ज़ल-जलाले वल-इकरामे,

يا ذَا الْجَلالِ وَالإِكُرامِ يا ذَا الْجَلالِ وَ الإِكْرامِ يا ذَا الْجَلالِ وَالإِكْرامِ،

Through You, Through You, Through You, Through You, Through You, Through You, Through You

बेहि, बेहि, बेहि, बेहि, बेहि, बेहि, बेहि,

بـِهِ بِـهِ بِـهِ بِـهِ بِـهِ بِـهِ بِـهِ

I beseech You with the help of all the Names whereby You have named Yourself,

अस'अलोका बे-कुल्ले इस्मिन  सम'मैय्ता  बेहि  नफ़'सका 

أَسْأَلُكَ بِكُلّ ِ إِسْمٍ سَمَّيْتَ بِهِ نَفْسَكَ

or which You have revealed in any of Your inspired Scriptures,

 अंज़ा-इताहू फ़ी शै-ईन मिन कुतो'बेका 

أَوْ أَنْزَلْتَهُ في شَيْءٍ مِنْ كُتُبِكَ

or Which You have inscribed in Your knowledge of the unknown;

ओईस-ता'थर्ता बेहि फ़ी 'इल्मिल-गैबी इनदका 

أَوِ اسْتَأثَرْتَ بِهِ فِي عِلْمِ الْغَيْبِ عِنْدَكَ،

and (I beseech You) in the name of the honored and exalted positions of Your Throne,

 बम'अक़ेदिल-इज्ज़े मिन 'अरशेका 

وَبِمَعاقِدِ الْعِزّ ِ مِنْ عَرْشِكَ،

and in the name of the utmost extent of Your Mercy as expressed in Your Book (the Quran)

 बे-मून'तहर-रहमते मिन किताबेका 

وَبِمُنْتَهَىٰ الرَّحْمَةِ مِنْ كِتابِكَ،

and in the name of that which "If all the trees on earth were to become pens

 बम लौ  अन्ना मा फिल अरज़े मिन शाजा' रतीन अक़'लामून 

وَبِما لَوْ أَنَّ ما فِي الأَرْضِ مِنْ شَجَرَةٍ أَقْلامٌ

and the sea, with seven more seas to help it, (were ink)

वल-बहरो यम'उद्दो-हू, मीम-बा'देही  सब'अतो अभोरिन 

وَالْبَحْرُ يَمُدُّهُ مِنْ بَعْدِهِ سَبْعَةُ أَبْحُرٍ

the Words of Allah would not come to an end.

मा नफ़े'दत का-लेमातू'ल्लाहे 

ما نَفِدَتْ كَلِماتُ اللهِ

Verily Allah is the Honoured, the Wise" 31:27;

इन्नल-लाहा अज़ीज़ून हकीम,

إِنَّ اللهَ عَزيزٌ حَكيمٌ

And I beseech You with the help of Your Beautiful Names which You have praised in Your Book,

 अस'अलोका बे-अस्मा'एकल हूस्नल-लाती ना'अत्ता'हा फ़ी किताबेका 

وَ أَسْأَلُكَ بِأَسْمائِكَ الْحُسْنَىٰ الَّتي نَعَتَّها في كِتابِكَ

saying “The most beautiful names belong to Allah: so call on him by them” 7:180

फ़ा'क़ूल'ता  लिल्लाहिल अस्मा'उल-हूसना फद-ऊहो बेहा 

فَقُلْتَ وَللهِ الأَسْماءُ الْحُسْنىٰ فَادْعوُهُ بِها،

And You have said "Call unto Me and I shall answer you” 40:60

'कुलता ‘उद’ऊनी अस्ताजिब लकोम

وَقُلْتَ اُدْعُوني أَسْتَجِبْ لَكُمْ،

and You has said, "And when My servants ask something of Me, lo, I am near, and I grant the prayer of the supplicant when he asks anything of Me” 2:186

 कुलता  इज़ा सा'अल-अक़ा 'इबादी ' अन्नी फ़ा-इन्नी क़रीबून ओजीबो दा'वता'द-दा' इज़ा दा'अने

وَقُلْتَ وَإِذا سَأَلَكَ عِبادي عَنّي فَإِنّـِي قَريبٌ أُجيبُ دَعْوَةَ الدّاعِ إِذا دَعانِ،

And You has said, "O My servants who have wronged yourselves, despair not of the Mercy of Allah;

 कुलटा या 'ल्बादेयल-लज़ीना असरफू ' अला अन्फोसेहीम ला ता-क्नातू मिन रहमतिल-लाहे 

وَقُلْتَ يا عِبادِيَ الّذَينَ أَسْرَفوُا عَلىٰ أَنْفُسِهِمْ لا تَقْنَطُوا مِنْ رَحْمَةِ اللهِ

verilly Allah forgives all the sins;

इन्नल-लाहा याग़'फेरूज़-ज़ोनूबा जमी-अन 

إِنَّ اللهَ يَغْفِرُ الذُّنُوبَ جَميعاً

verily He is the Forgiving, the Merciful." 39:53

इन्नाहू होवल ग़'फूरोर रहीम,

إِنَّهُ هُوَ الْغَفُورُ الرَّحيمُ،

Therefore I pray unto You, My God, and I ask You, My Cherisher and Sustainer,

 अना अस'अलोका या इलाही  अदूका या  रब्बे,

وَأَنَا أَسْأَلُكَ يا إِلـٰهِي وَأَدْعُوكَ يا رَبّ ِ

and I hope from You, my Chief,

 अर्जूका या सय्यादी  

وَأَرْجُوكَ يا سَيّـِدي

and I crave Your acceptance of my prayer, O my Protector, even as You have promised me,

 अत्मा' फ़ी इजाबती,, या मौलाया कमा ' अद-तनी 

وَأَطْمَعُ في إِجابَتي يا مَوْلايَ كَما وَعَدْتَني،

and I call upon You even as You have commanded me

 क़द दा'ओव्तोका कमा अमर्तानी

وَقَدْ دَعَوْتُكَ كَما أَمَرْتَني

So, do unto me what pleases You to do, O Generous One!

फफ़-अल बी मा अन्ता अह-लोहू, या करीमो 

فَافْعَلْ بي ما أَنْتَ أَهْلُهُ يا كَريمُ،

And all Praise be to Allah, the Cherisher and Sustainer of the worlds,

वल-हम्दो लील-लाहे रब्बिल-' अ-लमीना,

وَالْحَمْدُ للّهِ رَبّ ِ الْعالَمينَ

and the blessings of Allah be upon Muhammad and all His Descendants.

 सल-लल-लाहो ' अला  मोहम्मदीन   आलेही अजमा'इन

وَصَلَّىٰ اللهُ عَلىٰ مُحَمَّدٍ وَآلِهِ أَجْمَعينَ

वापस होम पेज पर जाए  

            

     

कृपया अपना सुझाव भेजें

ये साईट कॉपी राईट नहीं है !